Home / ताजा खबर / जज की हत्या कमजोर पुलिसिया तंत्र का नतीजा! अपराधियों पर नकेल कसें मुख्यमंत्री- दीपिका पांडेय सिंह

जज की हत्या कमजोर पुलिसिया तंत्र का नतीजा! अपराधियों पर नकेल कसें मुख्यमंत्री- दीपिका पांडेय सिंह

गोड्डा/राष्ट्रीय कांग्रेस सचिव सह महगामा विधायक दीपिका पांडे सिंह ने धनबाद जिले में जज की हत्या को लेकर राज्य के पुलिसिया तंत्र पर एक बार फिर से सवालिया निशान खड़ा किया है। उन्होंने राज्य सरकार से साफ-साफ कहा कि झारखंड में जज उत्तम आनंद जी की हत्या हमारे कमज़ोर पड़ रहे पुलिसिया तंत्र को उजागर कर रही है। अपराधी लगातार पुलिस की कमियों का फ़ायदा उठाकर संगठित तौर पर अपराध को अंजाम दे रहे हैं। वक़्त आ गया है की बेलगाम हो चुके लोगों पर नकेल कसा जाए और दोषियों पर सख़्त कार्यवाही हो ।

उन्होंने आगे लिखी है कि ये अकेला मामला नहीं है। इससे पहले अधिवक्ता मनोज झा की हत्या कर दी गई थी,जो पूरी तरह नहीं सुलझ पाई है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी से अनुरोध है पुलिस अधिकारियों को समय रहते क़ानून व्यवस्था पर सख़्त होने के लिए बाध्य करें। अपराधियों की सक्रियता झारखंड के विकास के लिए एक बट्टा है। इसे रोकना होगा।

दीपिका पांडे सिंह का फेसबुक पोस्ट

जानिये! अब तक का पूरा मामला
बीते बुधवार को सड़क पर जॉगिंग कर रहे जज उत्तम आनंद की कथित हत्या कर दी गई। सड़क पर जिस वक़्त वो जॉगिंग कर रहे थे उस वक़्त रोड बिलकुल खाली था और पीछे से आ रही ऑटो उन्हें धक्का मारते हुए आगे निकल गया। इस मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। मीडिया से लेकर आम जन तक कह रहे है कि यह कोई ह्त्या नहीं बल्कि साजिश के तहत की गई हत्या है। इस मामले में अब तरह-तरह से जांच की बात सामने आ रही है। वहीं अब सरकार में सहयोगी दल कांग्रेस की विधायक सह राष्ट्रीय कांग्रेस सचिव दीपिका पांडे सिंह ने भी सरकार को कड़े शब्दों में नसीहत दी है कि यह पहला मामला नहीं इससे पहले भी कई ऐसे मामले आये हैं जिसकी गुत्थी अब तक नहीं सुलझ सकी है। उन्होंने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से समय रहते पुलिसिया तंत्र को सुदृढ करने की बात कही है।
उन्होंने साफ साफ सरकार का ध्यान आकृष्ठ कराते हुए लिखी है कि अपराधियों की सक्रियता झारखण्ड के विकास में एक बट्टा है ।

विधायक दीपिक पांडे सिंह का फेसबुक पोस्ट

झारखंड हाईकोर्ट ने लिया है स्वतः संज्ञान
वहीं झारखंड उच्च न्यायालय ने धनबाद के जिला न्यायाधीश की कथित हत्या का स्वत: संज्ञान लिया है। इस मामले में सुनवाई चल रही है।

सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंची आवाज
यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंच गया है। गुरुवार को पूर्व एडिशनल सॉलिसिटर जनरल विकास सिंह ने सुप्रीम कोर्ट से इस कथित हत्या की CBI से जांच की मांग की है। विकास सिंह ने कोर्ट में कहा कि न्यायपालिका को स्वतंत्र और न्यायिक अधिकारी को सुरक्षित होना चाहिए। उन्होंने कहा है कि यह सुनियोजित साजिश है। साफ़ पता चल रहा है कि जज को ऑटो ने जान बूझकर टक्कर मारी है। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने विकास सिंह से इस मामले का जिक्र सीजेआई के सामने करने को कहा है और कहा कि वो भी मुख्य न्यायाधीश को इस बारे में बताएंगे।

साजिश में उपयुक्त ऑटो बरामद
जिस ऑटो ने जज को टक्कर मारी थी उसे भी पुलिस ने बुधवार देर रात गिरिडीह से बरामद कर लिया। ऑटो मंगलवार को चोरी हुआ था और बुधवार सुबह उसी ऑटो से 5 बजे उत्तम आनंद को टक्कर मारी गई। टक्कर के डेढ़ घंटे के बाद कुछ युवकों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया। सुबह साढ़े नौ बजे उनकी मौत हो गई थी। ऑटो के साथ ही दो संदिग्धों को भी पुलिस ने हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ जारी है। ऑटो की मालकिन सुगनी देवी ने फुटेज देखते ही ऑटो को पहचान लिया। उसने बताया है कि ऑटो मंगलवार देर रात चोरी हो गया था। स्वास्थ्य मंत्री और धनबाद के प्रभारी मंत्री बन्ना गुप्ता ने जांच के आदेश दिए हैं।

कई अहम केस को देख रहे थे उत्तम आनंद
उत्तम आनंद के पिता सदानंद प्रसाद ने संदेह जताया है कि उनके बेटे ने अभी हाल ही में एक व्यक्ति को उम्रकैद की सजा दी थी। कुछ महीने पहले भी उन्होंने कई आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा दी थी। उनको शक है कि इन्ही सब कारणों से उनके बेटे की ह्त्या करवाई गई होगी। एडीजी के छोटे भाई सुमन शंभु ने भी आरोपियों के रोष को हत्या का कारण माना। उनकी अदालत में कई हाईप्रोफाइल अपराधियों के केस चल रहे थे। उन्होंने कई लोगों को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। 2 दिन पहले ही एडीजे ने शूटर अमन सिंह एवं उनके गुर्गे अभिनव प्रताप सिंह एवं रवि ठाकुर की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी।

हाईकोर्ट में आज होगी मामले की सुनवाई
इस मामले में धनबाद SSP संजीव कुमार को तलब किया है। गुरुवार को इस मामले में सुनवाई होगी। हाइकोर्ट ने जज की मौत के बारे में पूरी रिपोर्ट मांगी है। NHAI से भी पूछा है कि हाइवे पर कितने हाईटेक कैमरे लगाए। वहीं उत्तम आनंद के शव का पोस्टमॉर्टम किया। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक उनके सिर पर भारी चीज से चोट के निशान मिले हैं। उनके पिता सदानंद प्रसाद ने कहा कि पहले रॉड से उनके सिर पर हमला किया गया। तब ऑटो टक्कर मारा गया। पोस्टमॉर्टम में इस बात की पुष्टि हुई है।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

JPSC Exam 2021: जेपीएससी PT परीक्षा में GS पेपर के 3 प्रश्न पर उठे सवाल,सवाल के विकल्प ही गलत

रविवार को हुए JPSC PT Exam के जनरल स्टडीज पेपर में पूछे गये 3 प्रश्नों …

09-23-2021 14:18:59×