Home / जरा हटके / सब्जी वाले के बेटे ने बनाई अनोखी बाइक का प्रोजेक्ट, अब न पेट्रोल की जरुरत पड़ेगी और न चार्ज करना पड़ेगा!

सब्जी वाले के बेटे ने बनाई अनोखी बाइक का प्रोजेक्ट, अब न पेट्रोल की जरुरत पड़ेगी और न चार्ज करना पड़ेगा!

सन्नी शारद,रांची/झारखण्ड की धरती के अंदर जीतने मिनिरल्स हैं उसके ऊपर उतनी ही प्रतिभा है. चाहे बात खेल जगत की हो या इन्वेंशन के सेक्टर की हर क्षेत्र में झारखंडियों ने अपना लोहा मनवाया परचम लहराया है. आज द फॉलोअप आपको एक ऐसे युवा से मिलवाएगा जिन्होंने अपने दम पर पहले इलेक्ट्रिक बाइक बनाई उसके बाद एक ऐसी बाइक का प्रोजेक्ट तैयार किया है जिसे अब न चार्ज करने की जरुरत पड़ेगी और न ही उसमें पेट्रोल भरवाने की जरुरत पड़ेगी। मिलिए जमशेदपुर के कामदेव पान से और जानिये कैसी होगी ये बाइक।

बिना पेट्रोल और बिना चार्ज किये सरपट दौड़ेगी बाइक

झारखण्ड के जमशेदपुर के रहने वाले कामदेव पान की उम्र काफी कम है लेकिन कम उम्र में ही उन्होंने जो शोहरत हासिल की है जो कारनामा कर दिखाया उसकी सराहना मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी कर चुके हैं. कामदेव पान ने पहले इलेक्ट्रिक बाइक बनाई। 60 से अधिक इलेक्ट्रिक बाइक वे बेच चुके हैं.

मुख्यमंत्री के साथ कामदेव

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी चला चुके कामदेव की बाइक

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी इस बाइक को चला चुके हैं. हमेशा रिसर्च करने वाले कामदेव ने अब अनोखा इन्वेंशन किया है. कामदेव ने अब एक ऐसी बाइक का प्रोजेक्ट डिजाइन किया है जिसे न चार्ज करना पड़ेगा न पैडल मारना पड़ेगा और न ही जिसमें पेट्रोल भरवाना पड़ेगा। कामदेव ने बताया कि महीनों के रिसर्च के बाद उन्होंने इस प्रोजेक्ट को डिजाइन किया है जो सिर्फ चलती जाएगी। कामदेव ने बताया कि एक बार स्टार्ट कर कोई भी उस बाइक से करीब 2 हजार किलोमीटर लगातार चला सकता है. कामदेव ने बताया कि दो हजार किलोमीटर लगातार चलाने पर एक कीट बदलना पड़ेगा। अगर हर दिन कोई 100 किलोमीटर तक चलाता है तो 6 महीने तक उनको कुछ भी नहीं करना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें : कमाई के मामले में धोनी नही हैं किसी से पीछे ,जानिये सन्यास के बाद कितनी है माही की कमाई

अपने बाइक पर बैठा कामदेव

कामदेव को सरकार से मदद की उम्मीद

कामदेव पान ने जो इस अनोखी बाइक का प्रोजेक्ट डिजाइन किया है उसे पूरा करने में करीबन 5 लाख रुपये का खर्च आएगा। कामदेव चाहते हैं कि इसमें सरकार उनको मदद करे ताकि वह दुनिया को बता सकें कि झारखण्ड के सुदूर इलाके का रहने वाला युवा भी ऐसा कर सकता है. कामदेव चाहते हैं कि सरकार स्टार्टअप के तहत या फिर किसी अन्य योजना के तहत उनकी मदद करे. कामदेव  कहते हैं पेट्रोल – डीजल की कीमत में हो रही बेतहाशा वृद्धि से परेशान आम लोगों को इससे राहत मिलेगी। 

बाइक की कीमत एक लाख रुपये से भी होगी कम

कामदेव पान ने बताया कि उन्होंने बिना ईंधन और चार्ज वाले जिस बाइक का प्रोजेक्ट डिजाइन किया है उसकी कीमत एक लाख रुपये से भी कम होगी। 50 हजार से एक लाख के बीच उसकी कीमत होगी। कामदेव ने बताया कि  अगर वह अभी से काम करना शुरू कर देंगे तो एक साल के अंदर बाइक बनकर बाजार में आ जाएगी।

कामदेव के पिता सब्जी बेचने का करते हैं काम

कामदेव बेहद ही गरीब परिवार से आते हैं. उनके पिता ने सब्जी बेचकर उन्हें ऊँची शिक्षा दिलाई। कामदेव बीएससी तक पढ़ाई पूरी कर चुके हैं. इलेक्ट्रिक बाइक के अलावे वे इलेक्ट्रॉनिक ब्लब सहित अपने कई अविष्कार को पेटेंट भी करवा चुके हैं. फ़िलहाल बिना ईंधन और बिना चार्ज के चलने वाला बाइक उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है.

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

IAS और IPS में कौन सी पोस्ट होती है ज्यादा शक्तिशाली और कितनी होती है इनकी सैलरी? जानें यहां

UPSC यानी यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (Union Public Service Commission) जैसा की नाम से ही …

09-23-2021 15:34:43×