Home / गोड्डा प्रखण्ड / ये नक्सलियों की दस्तक है या अपराधियों की धमक ?

ये नक्सलियों की दस्तक है या अपराधियों की धमक ?

नए पुलिस कप्तान को दी अपराधियों ने चुनौती 
एक और जहां रांची में गोड्डा के नए एसपी की पदस्थापन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी थी वहीं दूसरी और अपराधियों ने गोड्डा जिला के देवदाड़ थाना क्षेत्र के सियरकटिया में दो व्यापारियों से दो मोटरसाइकिल एवं नकदी छीनकर पुलिस प्रशासन के समक्ष चुनौती दे डाली है।जिले में एक माह में दूसरी घटना है ।अभी पहली घटना डुमरिया के पास बीच सड़क पर वाहनों से लूट का उद्भेदन हो भी नहीं पाया था कि अपराधियों ने दूसरी घटना को अंजाम दे दिया है। देखना है कि पुलिस कब तक इस घटना पर से पर्दा उठा पाती है । फिलहाल घटना की सूचना मिलते ही एसडीपीओ अभिषेक कुमार दल बल के साथ घटनास्थल पर कैंप कर रहे हैं। हर संभावित ठिकानों पर छापेमारी चल रही है। यह क्षेत्र सुंदरपहाड़ी से सटा हुआ है और अपराधियों के लिए सेफ जोन है।जहाँ एक समय नक्सलियों का पनाहगार रहा है ऐसे में ऐसी घटना में नक्सलियों की मौजूदगी से इंकार नही किया जा सकता ! 

23915733_1635073173277560_1743842357086437507_n

क्या है घटना
देवडांड़ थाना क्षेत्र के सियरकटिया के पास अपराधियों ने दामा हाट से लौट रहे दो दुकानदारों को पिस्तौल की नोक पर दो मोटरसाइकिल और नगदी छीन ली । दुकानदारों द्वारा विरोध करने पर अपराधियों ने पत्थर एवं पिस्तौल की बट से मारकर हरिपाल एवं उसके छोटे भाई दीपक पाल को मारकर घायल कर दिया । जहां हरिपाल की स्थिति गंभीर बनी हुई है। गोड्डा सदर अस्पताल में इलाज के बाद भागलपुर रेफर कर दिया गया है ।ग्रामीणों ने बताया कि सब दिन की भांति आज भी दोनों भाई दामा हटिया सामान बेचने गया हुआ था। दोनों भाई पार्टी में घुघनी मुढ़ी, अंडा आदि बेचने का काम करता है। लौटने के क्रम में सिरकटिया के नदी के ऊपर वटवृक्ष के पास रोड पर 5 अपराधी एवं कुछ बहियार में था ।जैसे ही ये लोग उस जगह पहुंचे अपराधियों ने रोक कर मोटरसाइकिल में लगे सभी सामान को फेंक दिया तथा मोटरसाइकिल एवं नकदी छीनने का प्रयास किया। विरोध किए जाने पर जमकर मारपीट की। मारपीट में बड़े भाई हरि पाल को गंभीर चोट आई। जिन्हे आनन फानन में मोटरसाइकिल से देवडांड लाया गया और फिर देवडांड़ से गोड्डा सदर अस्पताल। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद इसे भागलपुर रेफर कर दिया गया। ग्रामीणों ने पुलिस पर निष्क्रियता का आरोप लगाया है ।कभी यह क्षेत्र नक्सलियों का पनाहगार रहा है । भले ही अभी नक्सल की गतिविधियां कम हुई हो । देखना है कि पुलिस कितने जल्दी अपराधियों को पकड़ पाती है या फिर महज खानापूर्ति ही होगी……..?लेकिन ये जानना भी बेहद जरुरी है कि ये नक्सलियों की दस्तक है या अपराधियों की धमक ?

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

अवैध हथियार एवं विस्फोटक के साथ 4 गिरफ्तार ,बड़ी घटना के फिराक में थे अपराधी।

महगामा अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कामेश्वर कुमार सिंह,को बीते 23.दिसंबर की रात करीब 10 :00 बजे …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

01-18-2021 18:13:44×