Home / गोड्डा प्रखण्ड / सुखाड़ राहत का मिला पैसा ,बन गया बैंक का कर्ज “बैंक और बिचौलिए की मिलीभगत का हुआ खुलासा

सुखाड़ राहत का मिला पैसा ,बन गया बैंक का कर्ज “बैंक और बिचौलिए की मिलीभगत का हुआ खुलासा

45 लोगों के साथ हुआ फर्जीवाड़े का खुलासा

अजित कु.सिंह:गोड्डा/सूबे के मुखिया रघुवर दास प्रत्येक मंच से ये हिदायत देते नजर आते हैं कि कोई भी बिचौलिए को हावी होने मत दो ,बिचौलिया प्रथा को ख़त्म कर देना है ,मगर गोड्डा जिले में जो हुआ उसे देख नही लगता कि ये कोढ़ बन चुकी प्रथा जल्दी समाप्त होने वाली है ।

Screenshot_20180911-172347

कहानी कुछ ऐसी है कि गोड्डा व्यवहार न्यायलय के बाहर ये वो गरीब आदिवासी और दलित किसान हैं जो मेहरमा प्रखंड से आये हैं ,इनके चेहरे की रंगत ये बयान कर रही है कि वे कितने घबराए हुए हैं ।

Screenshot_20180911-172403

दरअसल मेहरमा प्रखंड के ये आदिवासी किसान बिचौलिए के मारे हुए हैं ,जी आप घबराएं नही बिचौलिए की पकड़ कितनी बजबूत होती है ज़रा उसे भी जान लें ।

Screenshot_20180911-172412

आज से पांच वर्ष पूर्व जब इलाके में सुखाड़ की घोषणा हुई थी उस वक्त उस इलाके के दो बिचौलिए बमबम और दिगंबर पाण्डेय नामक सख्स ने लगभग 45 लोगों के घरों पर ये कहकर अंगूठे का निशान लगवा लिया कि सुखा होने के कारण तुम्हे सरकार से मुआवजा मिलेगा ।

Screenshot_20180911-172418

मगर इन बेचारों को क्या मालूम कि वो जालसाजी से शिकार हो जायेंगे ,अंगूठे का निशान लगवाने के दस दिनों बाद सभी को दस से पंद्रह हजार रुपये करके नगद भुगतान भी किया गया ,फिर ये सभी उस पैसे को भूल से गए ।

मगर आज पांच वर्षों बाद स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के मड़पा शाखा द्वारा लोक अदालत द्वारा जब उन सुखाड़ पीड़ित परिवारों को नोटिस मिला तो इनके पैरों तले जमीन ही खिसक गयी ।
इधर भोले भाले आदिवासी और पिछड़े वर्ग के किसानो को जब नोटिस मिला तो सभी भागे भागे न्यायालय परिसर स्थित लोक अदालत के कार्यालय पहुंचे सभी के हाथों में सत्तर से लेकर पचासी हजार के बकाये भुगतान का नोटिस था हमसे हुई बातचीत में वो कहते हैं कि जब हम कभी बैंक गए ही नहीं ,खाता हमारा है ही नहीं तो हमने बैंक से कर्ज कब लिया ।

इधर गोड्डा कोर्ट में सरकारी वकील ने भी माना कि ये सरासर बैंक और बिचौलिए के सांठ गाँठ से हुए फर्जीवाड़ा का मामला नजर आ रहा है ,गरीब और आदिवासी पिछड़े वर्गों के लोगों के साथ जो अनपढ़ हैं उन्हें बरगलाकर अंगूठे का निशान लगवा लिया गया और सभी के नाम से लोन स्वीकृत कर कुछ रकम की भुगतान कर सारे पैसे का बंदरबांट कर लिया गया ।

इस मामले की जिला प्रशासन को पूरी तरह से जांच करनी चाहिए और दोषियों को दण्डित करना चाहिए ,बहरहाल ऐसे गंभीर मामले अगर बैंक के द्वारा किया जायेगा तो फिर बैंक की शाख पर तो बट्टा लगेगा ही ।

सरकार के सरकारी तंत्र पर भी1 सवालिया निशान लगने लाजमी हैं ,जरुरत है शख्ती मामले की जांच करने की और दोषियों पर कार्यवाई की ताकि ऐसे मामलों की पुर्नावृति न हो ।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

कोरोना पर हेमंत सरकार की नयी गाइडलाइन, जानिए राज्य में क्या खुला और क्या बंद ।

झारखण्ड/कोरोना संक्रमण की ताजा स्थिति को लेकर रांची में आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक हुई। …

04-13-2021 04:52:07×