Home / ताजा खबर / मां की हत्या के बाद अब बेटी और नाती को दी जा रही जान मारने की धमकी,स्टेशन पर रहने को मजबूर ।

मां की हत्या के बाद अब बेटी और नाती को दी जा रही जान मारने की धमकी,स्टेशन पर रहने को मजबूर ।

डर से घर छोड़कर दुमका रेलवे स्टेशन पर रहने को मजबूर मां, बेटा

विजय कुमार मेहरमा:दबंगों ने पहले मां की लाठी डंडे से बेरहमी पूर्वक पीट पीट कर हत्या कर दी और अब केस उठाने के लिए मृतका की बेटी और घटना के चश्मदीद मासूम नाती को धमकी दी जा रही है। फिर एक बार पुलिस आरोपियों के खिलाफ सुस्त बनी हुई है। परिणाम स्वरूप मां बेटा आरोपियों के डर से घर बार छोड़कर यायावर की भांति दुमका रेलवे स्टेशन पर शरण लेने के लिए मजबूर हो गया है।
बताते चलें कि मेहरमा थाना क्षेत्र के मानिकपुर पंचायत अंतर्गत भगैया मंडल टोला गांव में बीते 13 नवम्बर 2020 को आपसी विवाद में एक वृद्ध कौशल्या देवी नामक महिला को पड़ोस के आधा दर्जन लोगों ने मिलकर लाठी डंडे से पीट-पीटकर गंभीर रूप से घायल कर दिया गया था। इलाज के दौरान वृद्धा की पटना के पीएमसीएच अस्पताल में मौत हो गई । पटना पुलिस ने मृतका के नाती सोनू कुमार मंडल के फर्द बयान पर मामला दर्ज कर शव का पोस्टमार्टम कराया था।
वहीं वृद्ध महिला की मौत की सूचना पर मेहरमा पुलिस भगैया गांव पहुंची थी और मृतका की नतनी पूजा कुमारी के फर्द बयान पर मारपीट करने वालों के विरुद्ध मेहरमा थाना में कांड संख्या 178/20 दर्ज किया गया था। जिसमें गांव के ही गजाधर मंडल, दिवाकर मंडल, अझोली देवी, चांदनी देवी समेत अन्य को नामजद अभियुक्त बनाया गया है।

इधर हत्या का मुकदमा दर्ज होने के बाद से मेहरमा पुलिस कार्रवाई करने के बदले सुस्त बनी हुई है। पुलिस की सुस्ती के परिणाम स्वरूप आरोपियों का मनोबल इतना ऊंचा हो गया है कि अब मृतका की बेटी चांदतारा देवी को मुकदमा उठाने या सपरिवार जान से हाथ धोने की धमकी दी जा रही है। हत्या आरोपियों की धमकी के कारण अपने मायके में पुत्र सोनू कुमार मंडल, अभिषेक कुमार एवं पुत्री पूजा कुमारी के साथ रह रही चांद तारा देवी शरणार्थी का जीवन जीने के लिए विवश हो गई है। अभियुक्तों की ओर से केस उठाने या जान से मार देने की धमकी से पूरा परिवार भयभीत है। अभियुक्तों द्वारा यह भी धमकी दी जा रहा है कि जिस तरह तुम्हारी मां को पीट-पीटकर हत्या कर दिए हैं, उसी तरह तुम लोगों को भी ठिकाना लगा देंगे।

बहरहाल, अभियुक्तों के डर से उनके पूरा परिवार घर बार छोड़कर पलायन करने के लिए विवश हो गया। अपने घर में रहने की वजह दुमका रेलवे स्टेशन पर रहने को मजबूर है। जीवन यापन के लिए दर-दर भटक रही चांद तारा देवी अपना एवं अपने दो बच्चों के पेट की भूख मिटाने के लिए दुमका रेलवे स्टेशन पर भीख मांग रही है।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

झारखण्ड सरकार विकास के कार्यों को रोक, कल से खोले स्कूल : लोबिन हेम्ब्रम ।

गोड्डा/रविवार को झारखंड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन रांची, जिला इकाई गोड्डा के द्वारा लगातार 17 महीने …

07-31-2021 13:26:57×