Home / गोड्डा प्रखण्ड / फेसबुक के बीच में ये व्हाट्सएप वाला प्यार ।

फेसबुक के बीच में ये व्हाट्सएप वाला प्यार ।

पहले सिर्फ फेसबुक था,अब व्हाट्स एप्प भी आ गया है, एकदम कॉकटेल । मोबाईल भी बहुत तरक्की किया है, कितना बार व्हाट्स एप्प डिलीट किया फिर अपलोड ,दोस्त यार सवाल पूछ बैठेंगे की तुमको व्हाट्स एप्प पर मैसेज भेजा था डेलिवर नहीं हुआ । हद्द हाल है , फिर अपलोड कर लो । रात में मोबाईल चार्जिंग में लगा के रख दीजिये सुबह तक सात सौ मैसेज । जी , एक स्कूल ग्रुप , एक कॉलेज ग्रुप ,एक जहाँ पहले काम करते थे वहां का ग्रुप ,एक नेतागिरी का ग्रुप , एक मोहल्ला का ग्रुप ,एक इंदिरापुरम सोसाईटी का ग्रुप , और ये न्यूज और अभी अभी वाले तो बाप रे बाप …। ग्रुप छोड़ दीजिये तो वहां का एडमिन ईगो पर ले लेगा ।ग्रुप नहीं छोडिये तो वहां का मैसेज आपका जान ले लेगा !
।ग्रुप से किसी को हटा दीजिये तो पर्सनल पर दिमाग का दही करेगा , एक ही जोक सब ग्रुप पर , रात भर घर्र घर्र । जबाब नहीं दो तो क्या जी , भाव खाने लगे टाईप की सेंटी बात सब ।अगर स्कूल,कॉलेज का यूनिसेक्स ग्रुप है तो ‘हलकु बानर’ सब का दिन का शुरुआत गुलाब के फ़ोटो और एक शेर के साथ, जब शेर पढ़ने का उम्र था तब त मुँह से बकार नहीं निकल रहा था,अब चोरी के शेर में हेरा फेरी कर के इम्प्रेशन बना रहे हैं ।हुँह ।
एक भोरे अखबार पढने का आदत ख़त्म हो गया है, नींद से आँख मलते हुए सब कुकुर बिलाई का मैसेज पढ़िए । सौ जोक के बीच एक मैसेज रहेगा मेरा प्रोमोशन हो गया । अगर वो मैसेज नहीं पढ़ पाए तो बाद में पता चला तो अन्दर ही ग्लानी की दोस्त का प्रोमोशन हुआ हम टाईम पर जबाब नहीं दे पाए । वो अलग से मुह लटका के बैठा हुआ है । यार ।
सौ जोक के बीच तुम्हारा प्रोमोशन वाला मैसेज डिलीट हो गया ।
कुछ लोग को एडमिन बनने का शौक ।ऐसे जैसे देश के प्रधानमंत्री बन गए हैं ,कुछ को एडमिन नहीं बनने का दुःख जैसे जीवन का बहुत बड़ा कुछ छुट गया टाईप और अब वो अनाथ महसूस कर रहे हैं ।किसी दिन उनका मूड खराब हुआ ,चल भाई ,अपना ग्रुप बनाओ । रातों रात अब आप नए ग्रुप में मेंबर बन गए ।
बिना पूछे आपको नए ग्रुप में मेंबर बना दिया गया ।लीजिये अब नया ग्रुप में भी सौ मैसेज । कुछ लोग का अजीब अजीब मैसेज अब नहाने जा रहा हूँ । अब लोटा बाल्टी में डाल दिया , अब तौलिया ले लिया ! अब अब अब । उनका मैसेज पढ़ते रहिये तब तक उनका एक गमछी वाला सेल्फी आ जाएगा । बोल बम ।

जो जीवन में सबसे करीबी से अगर दूर रहे तो उसको भी शक ।

रात में दू बजे ऑनलाईन क्यों थे ? उफ्फ बाबा ई स्कूल, कॉलेज, दोस्त ग्रुप में व्यस्त थे ।कितना सफाई दें ।
आज तक भूखा नंगा टाईप ज़िंदगी काट रहे थे,कोई पूछने नहीं आया । आज व्हाट्स एप्प पर ऐसे बात करता है,जैसे आज खाना नहीं खायेंगे तो वो मेरा कॉलेज वाला दोस्त भी खाना नहीं खायेगा । भाई इतना प्रेम लेकर जन्मे हो तो बधाई । मेरे अन्दर इतना प्रेम नहीं बचा है । सॉरी ।
सब ग्रुप डिलीट ।ज्यादा माथा खराब करोगे, व्हाट्स एप्प ही डिलीट ।गीत गाते रहना ।

अगला भाग क्रमशः

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

गोड्डा: दुर्गा पूजा को लेकर एसपी का निर्देश,सभी थानों ले लिए गाइडलाइन जारी ।

पुलिस अधीक्षक गोड्डा वाइ एस रमेश के निर्देशानुसार सभी थाना क्षेत्रों में मंगलवार शाम 4 …

10-20-2020 22:13:55×