Home / ताजा खबर / शिक्षक ने दिए लोगों की सेवा के लिए अनाथ आश्रम को 25 हजार का चेक ।

शिक्षक ने दिए लोगों की सेवा के लिए अनाथ आश्रम को 25 हजार का चेक ।

महागामा अनुमंडल अंतर्गत हनवारा स्थित +2 उच्च विद्यालय हनवारा के शिक्षक श्री जितेंद्र कुमार ने गोड्डा जिला स्थित स्वामी विवेकानंद अनाथ सुरक्षा आश्रम को आज 25000 का चेक दान स्वरूप प्रदान किया. शिक्षक जितेन्द्र कुमार से बात करने पर उन्होंने कहा कि” यह बहुत ही पुण्य का काम है मानव जाति होने के नाते हमारा धर्म और कर्तव्य है कि हम समाज के दबे कुचले की मदद करें चाहे वो आम गरीब आदमी हो अपाहिज हो या अनाथ हो. एक दूसरे के काम आना हमारा परम कर्तव्य होना चाहिए. ये ऐसा काम है जिससे मनुष्य को आंतरिक ख़ुशी प्राप्त होती है और शक्ति मिलती है. अनाथ आश्रम की संचालिका वंदना दुबे ने बताया कि “यह हमारे लिए बहुत खुशी की बात है. जितेन्द्र जी ने इस संस्था की मदद की है इससे हमारी कार्य-योजना को बल मिलता है. ये संस्था उनके प्रति आभार प्रकट करती है और ईश्वर से उनके लिए लंबी आयु की कामना करती है. ज्ञातव्य हो कि गोड्डा शहर में ये संस्था विगत 15. वर्षों से लगातार कार्य कर रही है और अनाथ बच्चों की देख भाल कर रही है. इस संस्था की स्थापना वंदना दुबे ने की है और लगातार मानव सेवा में तत्पर है ।

कोरोना महामारी के समय “अन्न धन सर्वोपरी”के नाम से लोगों तक पहुंच रही है वंदना ।

हमारे देश मे ऐसी महामारी फैलने और इससे बचने के लिए लॉकडाउन का पालन करने में कई मजदूर,गरीब असहाय दिव्यांगों को खाने की परेशानी आ गई है ,जो रोज कमाने खाने वाला है ।इसके लिए सरकार भी कई योजनाओं के माध्यम से गरीबों के पेट भरने में लगी है ,लेकिन सिस्टम में निचले तबके के पदाधिकारी कर्मचारी की ढिलसिल रवैये के चलते कई जरूरतमंद तक सेवा नही पहुंच पा रही है ।ऐसे में ग्रामीणों से सीधे संपर्क कर वंदना दुबे ने अनाज घर तक पहुंचाने की बीड़ा उठा ली है ।

सुदूरवर्ती क्षेत्रों में पहुंचकर अनाज मुहैया कराते हुए
सुदूरवर्ती क्षेत्रों में पहुंचकर अनाज मुहैया कराते हुए

वंदना दुबे ने बताया कि वैसे लोगों को हम अनाज एवं अन्य आवश्यक सामग्री घरों तक पहुंचा रहे हैं जो कोरोना महामारी में लॉकडाउन के कारण अपनी आय खो दी है ।हमे फिलहाल इसके लिए किसी चंदे की जरूरत नही है लेकिन वैसे लोग जो मानव सेवा में अपनी भागीदारी देने के लिए खुद आगे आ रहे हैं उनकी भावनाओं को ध्यान में रखते हुए स्वीकार करना पड़ रहा है ।ताकि अधिक से अधिक जरुरतमंद तक हम अनाज या अन्य जरूरत की सामग्री पहुंचा सकें ।

मुख्यमंत्री के छेत्र में पहुंचकर जरूरतमंद को पहुंचाई अनाज ।

सोशल मीडिया पर अन्न धन सर्वोपरी के नाम से जब बंदना ने सेवा की मुहिम चलाई तो जारी नम्बर पर कई कॉल आये जिसका सत्यापन अपने लोगों से कराकर एवं ग्रामीणों से जानकारी प्राप्त कर अनाज पहुंचाना शुरू कर दी है ।

IMG-20200409-WA0002

सुंदरपहाड़ी क्षेत्र में डीलर की मनमानी एवं जरूरतमंद को लाभ न पहुंचने की शिकायत बराबर आ रही थी ,जिसके बाद सुंदरपहाड़ी के सुदूरवर्ती क्षेत्र बड़ा धमनी एवं छोटा धमनी से आई शिकायत पर बन्दना दुबे खुद निकल पड़ी और वहां पहुंचकर ग्रामीणों से मिलकर जरूरतमंद लोगों एवं उनके परिवारों को अनाज एवं अन्य राशन सामग्री पहुंचाई ।यह क्षेत्र झारखण्ड के मुख्यमंत्री एवं सांसद विजय हांसदा का क्षेत्र है ।और इन जगहों पर डीलर की मनमानी यह दर्शाती है कि ऐसी महामारी के समय मे भी जहां लोगों को तमाम जरूरतमंद तक मदद देनी चाहिए ,वहीं डीलर के ऐसे रवैये ने यह साबित कर दिया कि सरकार को इसपर शख्त कार्रवाई करने की जरूरत है ।

बंदना बताती है कि हम तबतक मानव सेवा करते रहेंगे जबतक हमारे शरीर मे अंतिम सांसे टिकी रहेंगी ।पृथ्वी पर मानव या किसी जीव की सेवा से बढ़कर कोई बड़ा धर्म नही है ।

 

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

सुशासन का दंभ भरने वाली बिहार पुलिस की बर्बरता का शिकार हुआ आशुतोष,पुलिस की पिटाई में मौत ।

राघव मिश्रा/लालू के जंगलराज को पटखनी लगाकर अपनी सुशासन की शंखनाद करने वाली बिहार सरकार …

10-30-2020 04:45:11×