Home / गोड्डा प्रखण्ड / नक्सलियों के लिए सेफ जोन साबित हो रहा सुंदरपहाड़ी का जंगल ।

नक्सलियों के लिए सेफ जोन साबित हो रहा सुंदरपहाड़ी का जंगल ।

सुंदरपहाड़ी : बीते कुछ वर्षों से आदिवासी बहुल सुंदरपहाड़ी प्रखंड नक्सलियों के लिए सेफ जोन साबित हो रहा है। दूसरे जिलों में घटना को अंजाम देकर नक्सली सुंदरपहाड़ी के जंगलों में छिप जाते हैं। यहां के घने जंगलों का फायदा नक्सली बेहतर तरीके से उठा रहे हैं। वर्ष 2015 के पूर्व पुलिस विभाग सुंदरपहाड़ी में नक्सली होने की खबर को सीधे तौर पर नकार देता था। लेकिन 10 अक्टूबर 2015 के बाद गोड्डा जिले को भी नक्सली प्रभावित माने जाने लगा। 2015 के 10 अक्टूबर को सुंदरपहाड़ी के कटलहडीह में पुलिस नक्सली मुठभेड़ के बाद गोड्डा जिले की पुलिस ने भी इस क्षेत्र में अपनी सक्रियता बढ़ाई है। इस मुठभेड़ मे एसएसबी व जिला पुलिस के एक एक जवान ष्षहीद हो गए थे। इस घटना ने पूरे राज्य को झकझोर कर रख दिया था। इसके बाद भी राज्य के अलग अलग जिलों में कई नक्सली वारदात हुई।

Screenshot_20180730-220107
जानकारों की माने तो अधिकांष नक्सली वारदातों का कनेक्शन सुंदरपहाड़ी प्रखंड से रहा है। इसके ठीक एक वर्ष बाद अक्तूबर 2016 बेलपहाड़ी में नक्सली व पुलिस के बीच भिड़ंत हुई थी। लेकिन यहां पर नक्सली पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए। जिसके बाद से बीच बीच में जिला पुलिस की ओर से एलआरपी की जा रही है। लेकिन आज तक गोड्डा जिला पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लग पायी है।

 

एनकाउंटर में मारा गया एक नक्सली सुंदरपहाड़ी का थाः

IMG-20180729-WA0019

शनिवार को दुमका जिला के गोपीकांदर थाना क्षेत्र के कछुआकांदर में नक्सली एनकाउंटर में पुलिस ने दो नक्सली को ढेर कर दिया । इसमें एक नक्सली की पहचान अनुज देहरी के रूप में हुई है। जो सुंदरपहाड़ी प्रखंड के पालमपाड़ा गांव का रहने वाला बताया जा रहा है। इससे एक और बात साबित होती है कि नक्सलियों की पैठ पिछले कुछ दिनों में सुंदरपहाड़ी के क्षेत्र में बनी है। कई बार तो इन क्षेत्रों में नक्सलियों के खुलेआम घूमने के भी सूचना पुलिस को मिलती रही है।

नक्सली कॉरीडोर पर पुलिस की पैनी नजर :

Screenshot_20180730-220218

तीन जिलों के नक्सली कॉरीडोर पर पुलिस ने गतिविधि बढ़ा दी है। सूत्रों की मानें तो नक्सलियों ने भी कॉरीडोर का दायरा बढ़ाया है। पहले दुमका के झींकपीन से लेकर सुंदरपहाड़ी के बारगो , सुसनी तक कॉरीडोर रहा है। इसका दायरा और बढ़ा है। इसके बाद से ही पुलिस की सजगता क्षेत्र में बढ़ी है। खुफिया सूत्र की मानें तो संताल परगना के दुमका, गोड्डा व पाकुड़ में दूसरे प्रदेश के नक्सली के भी आने की बात कही जा रही है, जिसकी अधिकारिक तौर पर अभी पुष्टि नहीं हो पायी है। माना जा रहा है नक्सली संताल परगना के इलाकों में अपनी पैठ मजबूत करना चाह रहे हैं।

क्या कहते हैं पुलिस कप्तान :

गोड्डा एसपी राजीव रंजन सिंह ने बताया कि अभी तक गतिविधि की कोई ऐसी सूचना नही है ,लेकिन जिला पुलिस के साथ साथ एसएसबी के जवान भी लगातार नजर बनाए हुए है ,नक्सलियों के सुंदरपहाड़ी क्षेत्र में घुसने की अबतक कोई सूचना नही है ,लेकिन पुलिस सतर्क है और लगातार एलआरपी की जा रही है और आगे भी अभी जारी रहेगा !

राजीव रंजन सिंह (एसपी गोड्डा)

 

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

कोरोना को लेकर समिति का शख्त कदम ,तमाम एहतियात के बीच किया जा रहा पूजा ।

ठाकुर गंगटी/प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न दुर्गा मंदिरों में गुरुवार को दुर्गा पूजा की षष्ठी तिथि …

10-29-2020 05:09:29×