Home / ताजा खबर / अडानी पावर के निर्माण में लगी HTG कम्पनी के एक मजदूर की संदेहास्पद स्थिति में चली गई जान,पुलिस कर रही जांच ।

अडानी पावर के निर्माण में लगी HTG कम्पनी के एक मजदूर की संदेहास्पद स्थिति में चली गई जान,पुलिस कर रही जांच ।

गोड्डा में कल अडानी के निर्माण कार्य मे लगी HTG कंपनी में कार्यरत एक मजदूर की संदेहास्पद स्थिति में मौत हो गई ।

संदेहास्पद स्थिति में मौत दोपहर के लंच टाईम के बाद हुई है,लेकिन शव को कंपनी द्वारा अँधेरा होने के बाद सदर अस्पताल लाया गया .आनन फानन में बिना पोस्ट मार्टम के ही ले जाने का प्रयास भी किया जाने लगा ,जिससे ये शक के दायरे में आने लगे साथ ही मृतक की ट्रेवल हिस्ट्री भी ओड़िसा की है जहां से वो दो माह पूर्व ही आया था .दरअसल बीरबल राम नाम के शक्स जिसकी उम्र 28 वर्ष थी एक चीन की कंपनी HTG में मजदूरी का काम करता था,

उसके भाई शिवनाथ राम भी उसी कम्पनी में कर्मी है, भाई के अनुसार मृतक दोपहर में लंच टाइम होने के बाद उसने खाना खाया और फिर अपने कमरे में ही मृत पाया गया .उसका भाई पिछले एक वर्ष से इसी कम्पनी में कार्यरत है उसके अनुसार ये घटना घटी दरवाजा बंद कमरे में घटी जिसके बाद दरवाजे को तोड़कर शव को निकाला गया ।.मृतक के भाई ने पोस्ट मार्टम नही करवाने की भी बात कही .मगर इसकी भनक जब मीडिया कर्मियों को लगी तो बात पुलिस तक भी पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए रोक लिया गया .
इस घटनाक्रम को देखें तो कई सवाल उठते हैं :

1.मौत की सुचना कम्पनी या अस्पताल प्रबंधन द्वार पुलिस को क्यों नही दी गयी ?

2.जब मृतक की ट्रेवल हिस्ट्री थी तो बिना पोस्ट मार्टम और बिना कोरोना जांच के क्यों शव को ले जाने की इजाजत दी जा रही थी ।

3.सवाल ये भी कि मौत जब दोपहर के खाने की बाद हुई तो शव को सात बजे के करीब अस्पताल क्यों लाया गया?

4.कम्पनी के कैम्प के अंदर ही मोतिया में थाना भी मौजूद है बावजूद हर छोटी छोटी घटना में पुलिस को सूचना देने वाली कम्पनी ने मौत के बाद थाने को सूचित क्यों नही किया ?

हलांकि प्राथमिक जांच में आए HTG कम्पनी के डॉक्टर ने कहा कि स्ट्रोक के कारण मौत होने की संभावना लगती है ,पूछने पर उन्होंने बताया कि मृतक कम्पनी के कैम्प में झाड़ू पोछा लगाता था ,जबकि कई लोगों के द्वारा कहा गया कि स्टोर कीपर था ।

इस संबंध में अस्पताल में मौजूद डॉक्टर सुनील कुमार से

पूछने पर उन्होंने बताया कि ये प्लाट डेट आया है,बिना पोस्टमार्टम मौत का कारण का पता नही लग सकता इसके लिए पोस्टमार्टम जरूरी है जबकि मृतक के भाई पोस्टमार्टम नही कराना चाह रहा था ।

पुलिस अधीक्षक को इसकी सूचना मिलते ही पुलिस ने यूडी केस दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया ।

पुलिस अधीक्षक वाई एस रमेश ने हमे बताया कि यूडी केस दर्ज कर लिया गया ,ऐसे केस में बिना पोस्टमार्टम जाने की अनुमति नही है ।पोस्टमार्टम जांच आने के बाद ही मौत के कारण का सही पता चल पाएगा ,जिसके बाद पुलिस अग्रतर कार्रवाई करेगी ,फिलहाल पुलिस हर बिंदु पर जांच कर रही है ।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

सुशासन का दंभ भरने वाली बिहार पुलिस की बर्बरता का शिकार हुआ आशुतोष,पुलिस की पिटाई में मौत ।

राघव मिश्रा/लालू के जंगलराज को पटखनी लगाकर अपनी सुशासन की शंखनाद करने वाली बिहार सरकार …

10-29-2020 22:04:56×