Home / गोड्डा प्रखण्ड / नक्सली एनकाउंटर : घटना के चौथे दिन भी गोड्डा पुलिस के हाथ खाली ।

नक्सली एनकाउंटर : घटना के चौथे दिन भी गोड्डा पुलिस के हाथ खाली ।

घायल नक्सलियों का अब तक नहीं मिला सुराग

घायल नक्सलियों के खोज में मंगलवार को सुंदरपहाड़ी के नक्सल प्रभावित इलाकों में सर्च अभियान चलाया गया। गोपीकांदर थाना क्षेत्र के कछुआकांदर में ष्षनिवार को हुए दो नक्सली एलकाउंटर के बाद चौथे दिन भी गोड्डा पुलिस के हाथ खाली है। पुलिस को अब तक कोई सफलता हाथ नहीं लगी है।

IMG-20180801-WA0005

मंगलवार को एसडीपीओ अभिषेक कुमार के नेतृत्व में सर्च अभियान चलाया गया। इस दौरान गोराडीह, तीलाईपाड़ा, डांगापाड़ा, बेलपहाड़ी, भुस्कीपाड़ा आदि गांवों में सर्च अभियान चलाया गया। इस दौरान जिला पुलिस के अलावे एसएसबी, सैप, डीएपी के जवान षामिल थे। इस दौरान एसडीपीओ अभिषेक कुमार ने गांवों में लोगों से भी बातचीत की। लेकिन किसी प्रकार की जानकारी नहीं मिली।

क्या इस बार भी चकमा देने में कामयाब हुए नक्सली ?:

दुमका जिला के गोपीकांदर थाना क्षेत्र के कछुआकांदर में ष्षनिवार को हुए नक्सली एनकाउंटर में पुलिस को सफलता हासिल हुई थी। पुलिस की गोलियों से दो नक्सली मारे गए है। पुलिस को यह अंदेषा है कि नक्सलियों से हुए भिड़ंत में और भी और भी नक्सलियों को गोली लगी है। इसके आधार पर ही तीन जिलों के पुलिस को हाईअलर्ट पर रखा गया है। इसमें गोड्डा, दुमका व पाकुड़ जिला ष्षामिल है। पुलिस ने कयास लगाया है कि घायल नक्सली इसी क्षेत्र में अपना इलाज करा सकते है।

IMG-20180801-WA0008

जिसके बाद से लगातार गोड्डा पुलिस सुंदरपहाड़ी के नक्सल प्रभावित इलाकों में लगातार सर्च अभियान चला रही है। लेकिन पुलिस के हाथ अब तक खाली है। घायल नक्सलियों का कोई अता पता भी नहीं चल पाया है। जानकारों की माने तो पुलिस अंधेरे में लगातार तीर चला रही है। लेकिन एक भी तीर सटीक निषाने में नहीं लगी है। इधर डीआईजी के द्वारा नक्सली एनकाउंटर के दौरान तीन से चार नक्सलियों को गोली लगने की बात कही जा रही है। नक्सलियों की संख्या आठ से दस बतायी गयी है। लेकिन तीनों जिलो से आए रिपोर्ट में एक भी गांव के लोगों ने नक्सलियों के गुजरने की बात नहीं बतायी है। इस सर्च अभियान में पुलिस का सूचनातंत्र भी काफी कमजोर साबित हो रहा है।

क्या कहते है एसडीपीओ :

सुंदरपहाड़ी के नक्सल प्रभावित इलाकों में सर्च अभियान चलाया जा रहा है। घायल नक्सलियों का अब तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। फिलहाल सूचनातंत्र को मजबूत करने की कोषिष की जा रही है। लगातार इस क्षेत्र में दबिष बनायी जा रही है।
अभिषेक कुमार, एसडीपीओ, गोड्डा।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

आर्थिक तंगी के कारण डाक्टर की मौत,कर्ज से डूबा हुआ था परिवार

गोड्डा जिले में संविदा के आधार पर कार्यरत डॉक्टर विजयकृष्ण श्रीवास्तव की लाश आज उनके …

10-21-2020 21:12:55×