Home / ताजा खबर / संघर्षों से लड़कर संसाधनों की कमी में विश्व से लोहा लेने चले गोड्डा के हरफनमौला ।

संघर्षों से लड़कर संसाधनों की कमी में विश्व से लोहा लेने चले गोड्डा के हरफनमौला ।

दिव्यांग वर्ल्ड कप के लिए चयनित हुए मनीष

राघव मिश्रा/गोड्डा हमेसा से अपनी अलग पहचान के लिए जानी जाती है और जब बात गर्व या सम्मान पर गोड्डा के खिलाड़ियों की हो रही हो तो उसमें हरफनमौला मनीष की बात न हो ये आमतौर पर देखने को मिला है ।चाहे बात क्रिकेट का हो या कैरम का, कुश्ती का हो या मस्ती का गोड्डा के मनीष सिंह हमेसा से ऐसी जगहों पर अपनी पहचान कायम रखे हैं ।

IMG-20190521-WA0086

हरफनमौला खिलाड़ी हैं मनीष :

मनीष सिंह दरअसल कई खेलों में शक्रिय रहे हैं ,और अपनी छाप छोड़े हुए हैं लेकिन क्रिकेट में उनकी दिलचस्पी बचपन से रही है ,क्रिकेट में हरफनमौला के नाम से गोड्डा में मशहूर खिलाड़ी मनीष सिंह एक विलक्षण प्रतिभा के भी धनी हैं ,वो न सिर्फ क्रिकेट कैरम और कुश्ती जैसे खेलों से जुड़े हैं बल्कि वो एक अच्छे शिक्षक भी हैं और जिले के प्राइवेट स्कूलों में बच्चों को खेल प्रशिक्षण के अलावा कई विषयों का ज्ञान भी दिए हैं ।इसके अलावे वो संगीत में काफी रुची रखते हैं गायन के साथ साथ वादन में भी उनकी एक अच्छी पकड़ है जो आमतौर पर गोड्डा के कई बड़े सांस्कृतिक कार्यक्रमो में देखने को मिल जाता है ।वो एक अच्छे उद्घोषक के रूप में भी जाने जाते हैं कुल मिलाकर देखा जाय तो मनीष सिंह के अंदर अनगिनत प्रतिभा छिपी हुई है उनमें से एक क्रिकेट है जिसमे उन्होंने को खुद को गोड्डा के हरफनमौला के रूप में स्थापित किया है ।

IMG-20190521-WA0088_1558459078214

संघर्षों से भरा रहा जीवन ।

साधारण परिवार में जन्मे मनीष सिंह का जीवन हमेसा संघर्षों से लड़ता रहा ,बचपन मे पटाखों से अपनी दाएं हाथ की हथेली गंवा दी थी जिसके कारण ही वो दिव्यांगों हो गए ,लेकिन हाथ की हथेली गंवाने के बावजूद उन्होंने अपने संघर्ष को जारी रखा ,लेकिन इसी दौरान उनके भाई की दुर्घटना में मृत्यु होने से पूरा घर मर्माहत हो गया ,इस दैरान भी मनीष सिंह ने अपना हौसला नही खोया ,बड़े भाई के गुजर जाने के बाद पिता के कंधों का ईकलौता सहारा मनीष ही थे जिन्होंने वैसी घड़ी में भी अपनी परवाह न करते हुए बहुत कुछ त्याग कर परिवार को संभाला ,उसके बाद भी उन्होंने कभी घर मे ही यह एहसास नही होने दिया कि क्रिकेट या अन्य खेलों के लिए उनके पास संसाधनों की कमी है ,उन्होंने प्राइवेट स्कूलों में नॉकरी कर अपना खर्च उठाया और उसी संघर्षों के बीच लड़ते हुए दिव्यांग क्रिकेट में अपना योगदान देना शुरू कर दिया ।हालांकि उन्होंने जिला क्रिकेट में भी अपना उत्कृष्ट योगदान दे रखा है ।

IMG-20190521-WA0083
गांव के खेत जब होते थे क्रिकेट ग्राऊंड ।
मनीष सिंह क्रिकेट में उस समय से अपना योगदान दे रहे हैं जब शहर से हटकर गांवों में क्रिकेट टूर्नामेंट हुआ करता था और वो अपनी टीम के साथ गांव के उन खेतों में भी अपनी छाप छोड़ आते थे जहां क्रिकेट का ग्राउंड वही खेत हुआ करता था ।
उन खेतों और गलियों में क्रिकेट की प्रैक्टिस करते करते मनीष सिंह +2 हाई स्कूल के छात्रावास में खुद को निखारने में लगे रहते थे ।

संसाधनों की कमी से जूझते रहे मनीष ।

दरअसल क्रिकेट को महंगे खेल के रूप में देखा जाता है और मनीष सिंह ऐसे घरों से नही थे जहां क्रिकेट में हजारों रुपये लगा सके ।चाहे बैट खरीदने की बात हो चाहे पैड खरीदने की या फिर पूरी किट इसकी कमी इन्हें हमेसा सताती रही साथ ही हमेसा से इन समस्याओं से जूझते रहे हैं बावजूद अपनी एक छोटी सी प्राइवेट नॉकरी कर जो कुछ जुगत में कर पाते वो करते थे और उसी संसाधनों के साथ वो बढ़ते गए ।वो क्रिकेट में बतौर स्पिनर के रूप में जाने जाते हैं लेकिन जब बल्ला हाथ मे थामते हैं तो बाएं हाथ से लगा छक्का भी देखने लायक होता है ।एक प्रकार से वो ऑलराउंडर की तरह अपनी पहचान बनाए रखे हैं ।दाएं हाथ की हथेली खोने के बावजूद बाएं हाथ की उंगलियों से अब अन्य देशों के खिलाड़ियों को नचाने चले हैं ।

आज जब दिव्यांग विश्व कप के इंडिया कैम्प में चुनाव हुए तो इंडिया से दो स्पिनरों को रखा गया है जिसमे मनीष को पहले स्थान पर रखा गया है ।इंग्लैंड में प्रस्तावित दिव्यांग क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए गोड्डा के हरफनमौला खिलाड़ी मनीष सिंह के चयन के बाद जिले के क्रिकेट प्रेमियों सहित पूरे जिले वासियों के लिए हर्ष का विषय है ।दिव्यांग वर्ल्ड कप के लिए चयनित होने के बाद मनीष सिंह के पास बधाइयों का तांता लगा हुआ है ।और अब देश के लिए उसी संघर्षों के बीच जल्द ही विश्व से लोहा लेने के लिए गोड्डा के हरफनमौला निकलेंगे ।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

गोड्डा: दुर्गा पूजा को लेकर एसपी का निर्देश,सभी थानों ले लिए गाइडलाइन जारी ।

पुलिस अधीक्षक गोड्डा वाइ एस रमेश के निर्देशानुसार सभी थाना क्षेत्रों में मंगलवार शाम 4 …

10-20-2020 05:22:27×