Home / जरा हटके / जरा हटके : माल महाराज का मिर्जा खेले होली।।

जरा हटके : माल महाराज का मिर्जा खेले होली।।

अभिजीत तन्मय/आजकल गोड्डा में भी यही हो रहा है। गणतंत्र दिवस का अवसर हो या स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य पर होने वाला कार्यक्रम हो सब जगह बंदरबांट शुरू हो गया है।
जिला प्रशासन के अगुवाई में दो कमिटी बनती है जो खेल और सांस्कृतिक कार्यक्रमों को करवाती है। इनसब में होने वाले खर्च के लिए व्यवस्था भी करवाती है। पिछले कुछ सालों से कुछ कंपनियों के द्वारा भी मोटी रकम हाथ लग जाती है।
इस बार भी खर्च के लिए राशि की व्यवस्था की जा रही थी। कुछ लोगों(कंपनी या विभाग के पदाधिकारी) को बुला कर खर्च वहन करने का दवाब बनाया जा रहा था।

IMG-20181207-WA0120
इसी क्रम में शहर के एक जनप्रतिनिधि को उनके विभाग से राशि आवंटित करने को कहा गया। महोदय भी पुराने खिलाड़ी है उन्होंने स्पष्ट कह गया है मेरा विभाग कैश नही देगा! आप लिस्ट दीजिये मैं समान दे दूंगा!
इस बात को सुनते ही कुछ सदस्यों के चेहरे का रंग उड़ गया।
अब रेट में हेराफेरी भला कैसे हो पाएगी?
हाल के दिनों में ही एक दूसरे कमिटी के हिसाब किताब में काफी बवाल मचा था जिस कारण कुछ सदस्य चुपचाप बैठे रहे क्योंकि पिछले साल वाली बात इस साल की कुर्सी में रह नही गयी है। इस बार वाला पहले से खरियाया हुआ है।
इसी क्रम में खर्च पर जब बात आकर रुकी तो पता चला कि पिछली बार यानी 15 अगस्त के कार्यक्रम में लगभग 90 हज़ार का आँकड़ा छुआ था लेकिन एक खास कम्पनी से 2 लाख 40 हजार का भुगतान किया गया था तो सवाल ये उठता है बांकी की बची हुई राशि कहाँ गयी?
कम्पनी के ही एक अधिकारी की मिलीभगत से ये जुगाड़ हो पाया था क्योंकि पहली बार बिल तो 88 हजार का ही गया था तो फिर 2.40 लाख मिला तो गया कहाँ?

20181014_160921
कम्पनी के एक अधिकारी ने बताया कि बात ऊपर तक चली गयी थी लेकिन मैं बैकफुट पर आ गया क्योंकि किसी सीनियर के खिलाफ बोलना अच्छा नही लगा। अब ऊपर वाले और एक प्यादे के बीच कौन सी खिचड़ी पकी ये पता नही लेकिन आजकल खिचड़ी खूब पक रही है।
तब उसी बातचीत के क्रम में कम्पनी के अधिकारी ने हँसते हुए कह दिया कि आजकल भगवान जी के नाम पर भी अच्छी उगाही हो जाती है। शहर में एक मंदिर में कुछ भक्तिमय आयोजन हुआ था जिसके तहत 50 हजार रुपये भी ले गया लेकिन वहां एक बैनर तक नही लगाया जबकि कार्यक्रम किसी मंच के द्वारा किया गया था। अब किस पर भरोसा किया जाए।

 

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

आज योग की सबसे ज्यादा जरूरत नीति और नेताओं को..!

अभिषेक आर्यन/आज योग दिवस है। पाँच बजे भोर से ही आस्था चैनल को अपने सामने …

10-24-2020 17:47:12×