Home / ताजा खबर / खबर का बड़ा असर :सांसद ने की पहल :अब अदानी नही लेगी आदिवासी की विवादित जमीन ।

खबर का बड़ा असर :सांसद ने की पहल :अब अदानी नही लेगी आदिवासी की विवादित जमीन ।

गोड्डा डेस्क/ गोड्डाअदानी कम्पनी का भूमि अधिग्रहण का का पूरा हो चुका है ,लगभग अधिग्रहित जमीन को कम्पनी ने चारदीवारी से घेर लिया है लेकिन माली मौजा के आदिवासियों की 16 कट्ठा 16 धुर वाली जमीन जो मैनेजर हेम्ब्रम इत्यादि परिवारों का जमीन है अधिग्रहण के बाद उठे विवाद के बाद हाथ लगाना लगभग छोड़ दिया था ।

Screenshot_20181205-191008_Video Player

चूंकि आदिवासी मानने वाले नही थे,उन आदिवासियों ने साफ तौर पर कह दिया था कि सरकार गोली मारकर जमीन को हासिल कर ले ।हालांकि भूमि अधिग्रहण कानून के अनुसार आदिवासी की वो जमीन अधिग्रहित हो चुकी है ।

Screenshot_20181207-201249_Video Player

इसलिए कई बार उस माली मौजा जमीन को कम्पनी घेरने का प्रयास भी की अपना बोर्ड लगाने को भी चाहा था लेकिन आदिवासियों के हठ के आगे किसी की भी नही चली।चूंकि उसी जमीन पर आदिवासी के पूर्वज को भी दफनाया गया है ।

IMG-20181205-WA0063

आदिवासी जमीन के लिए अपनी जान देने को तैयार थे ।इस विवादित जमीन का विस्तृत खबर सबसे पहले मैं हूँ गोड्डा.कॉम ने प्रमुखता से प्रकाशित की थी चूंकि पूरे घटना क्रम की ग्राउंड रिपोर्टिंग मैं हूँ गोड्डा की टीम ने किया था।

Screenshot_20181205-191014_Video Player

अब हमारी खबर पर बड़ा असर हुआ है उस विवादित जमीन से उठे राजनीति द्वंद को सांसद डॉ.निशिकांत दुबे ने एक झटके में खत्म कर दिया है ।

Screenshot_20181207-213519_Video Player

अडानी पावर प्लांट के लिए आदिवासियों की जमीन अधिग्रहित की गई थी जिसका आदिवासी परिवार विरोध कर रहे थे उस विवादित जमीन को लेकर गोड्डा के सांसद डॉ निशिकांत दुबे ने बड़ा बयान दिया है। आज अदानी पॉवर प्लांट का निरीक्षण करने पहुंचे सांसद डॉ निशिकांत दुबे ने कहा कि किसी भी क्षेत्र के विकास के लिए उद्योग,बड़ी कंपनी जरूरी है। अदानी गोड्डा के लिए बहुत जरूरी है।
विवादित जमीन जिसके लिए काफी हंगामा हो रहा है उस जमीन को लेकर जिला प्रशासन और कम्पनी से बात हो गयी है अब कम्पनी उस जमीन को नही लेगी। रास्ते के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाएगी। कई लोग जमीन देने को तैयार है उनसे जमीन ले ली जाएगी।

Screenshot_20181207-200818_Video Player

आज डॉ.निशिकांत ने अदानी कम्पनी का मैराथन दौरा भी किया और कम्पनी द्वारा किये जा रहे काम का निरीक्षण किया ।इस दौरान डॉ.दुबे उपायुक्त किरण कुमारी पासी से भी मिले जहाँ उन्होंने अदानी कंपनी द्वारा अधिग्रहित विवादित आदिवासी जमीन पर चर्चा कर उस जमीन को नही लेने की बात कही साथ ही डॉ. दुबे ने कम्पनी के अधिकारियों से भी मिलकर उन्हें उस जमीन का इस्तेमाल न करने को कहा जिसके बाद इस मामले पर सांसद द्वारा जो बात निकलकर सामने आई की अब अदानी कम्पनी उस विवादित जमीन का इस्तेमाल नही करेगी !

Screenshot_20181207-213815_Video Player

इस दौरान सांसद ने अदानी कम्पनी के नए ऑफिस में बैठकर अदानी कम्पनी का मॉडल मैप एलसीडी के जरिये देखा तथा कम्पनी द्वारा किये गए कार्य की तस्वीरें देखे ।

पैसा लेकर स्वेच्छा से दे सकते हैं आदिवासी अपनी जमीन :सांसद

Screenshot_20181207-201047_Video Player

अदानी कम्पनी का भूमि अधिग्रहण का कार्य पूरा कर चुकी है ,लगभग अधिग्रहित जमीन को कम्पनी ने चारदीवारी से घेर लिया है लेकिन माली मौजा के आदिवासी की 16 कट्ठा 16 धुर वाली जमीन को कम्पनी ने उठे विवाद के बाद हाथ लगाना लगभग छोड़ दिया था चूंकि आदिवासी मानने वाले नही थे,उन आदिवासियों ने साफ तौर पर कह दिया था कि सरकार गोली मारकर जमीन को हासिल कर ले ।

Screenshot_20181205-191732_Video Player

हालांकि भूमि अधिग्रहण कानून के अनुसार आदिवासी की वो जमीन अधिग्रहित हो चुकी है ,इसलिए कई बार उस माली मौजा जमीन को कम्पनी घेरने का प्रयास भी की अपना बोर्ड लगाने को भी चाहा था लेकिन आदिवासियों के हठ के आगे किसी की भी नही चली आदिवासी जमीन के लिए अपनी जान देने को तैयार थे ।

Screenshot_20181205-191614_Video Player

सांसद डॉ निशिकांत दुबे ने अपने मैराथन दौरे के बीच मैं हूँ गोड्डा को बताया कि अदानी कम्पनी द्वारा अधिग्रहित माली मौजा का विवादित आदिवासी की जमीन को अदानी अब इस्तेमाल नही करेगी लेकिन आदिवासियों के लिए आगे का विकल्प खुला रहेगा उनका पैसा पड़ा रहेगा वो जब चाहे पैसे लेकर अपनी जमीन दे सकते हैं ।

सांसद ने महागठबंधन पर भी साधा निशाना

Screenshot_20181207-200805_Video Player

विवादित जमीन का निपटारा करने गोड्डा पहुंचे सांसद डॉ.निशिकांत दुबे ने महागठबंधन पर भी निशाना साधा उन्होंने कहा कि महागठबंधन द्वारा भटकाये आदिवासियों के लिए विकल्प खुला रहेगा कम्पनी जमीन का इस्तेमाल नही करेगी लेकिन आदिवासी को जिस दिन लगेगा कि महागठबंधन या राजनीतिक दलों द्वारा ठगे गए हैं उस दिन पैसा लेकर आदिवासी जमीन ले सकते हैं,एक दिन इन आदिवासियों को पता चलेगा कि महागठबंधन की राजनीति में फंसकर उनको क्या लाभ हुआ या क्या नुकसान ।।

जिन्हें विकास से कोई मतलब नही वही राजनीति करना चाहते हैं : डॉ.निशिकांत दुबे

सांसद ने विपक्षी गठबंधन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जमीन पर राजनीति वही लोग कर रहे हैं जिन्हें यहां के विकास से मतलब नही, रोजगार से मतलब नही लोगों से मतलब नही वही लोग खासकर महागठबंधन के लोग ही ऐसे जमीन पर राजनीति करना चाहते हैं ।।

IMG-20181207-WA0120

रास्ता का भी होगा वैकल्पिक व्यवस्था :सांसद

माली मौजा पर 16 कट्ठा 16 धुर वाली जमीन पर उठे विवाद के बाद रास्ता भी एक बड़ी समस्या बन गई थी जिसका भी निराकरण आज सांसद डॉ निशिकांत दुबे ने कर दिया है ,सांसद डॉ दुबे ने कहा अब अदानी रास्ते के लिए सोनडीहा एवं गायघाट के लोगों का जमीन लेगी जो उस गांव के लोग स्वेच्छा से देना भी चाह रहे हैं ।।

20181014_160921

कम्पनी पहुंचते ही सांसद ने कम्पनी सुरक्षा मानकों का रखा खयाल।

Screenshot_20181207-200939_Video Player

अदानी कम्पनी के निरीक्षण करने एवं भूमि विवाद का निपटारा करने पहुंचे गोड्डा सांसद ने कम्पनी के सुरक्षा मानकों का पूरा खयाल रखा कम्पनी क्षेत्र पहुंचते ही कम्पनी द्वारा दिये गए ड्रेस एवं हेलमेट को लगाकर अपनी कार को चलाते रहे ,ताकि कम्पनी की सुरक्षा  मानक का खयाल रखा जा सके ।।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

JusticeForAppu : SP ने थानेदार को किया सस्पेंड, थाने में पुलिस की पिटाई से अप्पू की हुई थी मौत ।

भागलपुर/इंजीनियर आशुतोष पाठक की पुलिस की पिटाई से मौत मामले में नवगछिया एसपी ने कार्रवाई …

10-31-2020 19:35:54×