Home / गोड्डा प्रखण्ड / गोड्डा / गोड्डा:अधूरी नियमावली में कैसे हो रही आठवीं बोर्ड की परीक्षा ?

गोड्डा:अधूरी नियमावली में कैसे हो रही आठवीं बोर्ड की परीक्षा ?

प्राइवेट स्कूलों में नियमावली की उड रही है धज्जियां !

झारखंड अधिविद्य परषिद के तत्वावधान में हो रही आठवीं की परीक्षा में सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों में कई नियमों की अनदेखी हो रही है। विभाग के सचिव द्वारा गठित कमिटी ने जो नियमावली बनायी है उसके अनुरूप परीक्षा का संचालन नहीं हो रहा है। जिससे इनके गुणवत्ता पर भी सवाल खड़े हो रहे है। आखिर विभाग जैक द्वारा ली जा रही परीक्षा में नियमों को नजर अंदाज क्यों किया जा रहा है? क्या ऐसे ही गणुवत्तापूर्ण शिक्षा की बात सरकार कह रही थी?

प्राइवेट स्कूलों में स्थानीय शिक्षक ही ले रहे है परीक्षा :

विभाग के सचिव द्वारा निर्देशित पत्र में दिया गया है कि आठवीं की परीक्षा सरकारी व गैर सरकारी विद्यालय दोनों में आयोजित होंगी। जहां परीक्षा लेने वाले वीक्षक भी अन्य स्कूल से प्रतिनियुक्त किए जाएंगे। लेकिन प्राइवेट विद्यालयों में आयोजित हो रही परीक्षा मेें स्थानीय शिक्षकों द्वारा ही परीक्षा ली जा रही है। जिससे इस परीक्षा का कोई मतलब नहीं रह जाता है। पड़ताल के दौरान यह भी सामने आया कि पर्याप्त प्रश्नपत्र भी प्राइवेट स्कूलों में नहीं दिया जा रहा है। इसके अलावे विभाग द्वारा प्राइवेट स्कूलों में वहां के ही प्रिंसपल या शिक्षक को वहां का वीक्षक नियुक्त किया गया है। जो नियम के विरूद्ध है।

परीक्षा के बाद कैसे होगा अंक परीक्षण :

परीक्षा विगत 20 फरवरी से पूरे राज्य में ली जा रही है। गृह केंद्र में परीक्षा होगी, लेकिन वीक्षक की भूमिका में दूसरे स्कूल के शिक्षक रहेंगे। डीईओ के नेतृत्व में परीक्षा होगी। पहली बार हो रही आठवीं बोर्ड की परीक्षा को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। गणित, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान विषयों में 80 अंकों की लिखित परीक्षा होगी। 20 अंकों के प्रोजेक्ट लेने की घोषणा हुई है, लेकिन प्रोजेक्ट में अंकों का विभाजन किस प्रकार होगा, यह जानकारी अब तक जिला को नहीं दी गई है। इसको लेकर शिक्षकों में ऊहापोह हैं। शिक्षकों का कहना है कि पूरे मामले में सबसे अहम है कि अबतक राज्य में नो डिटेंशन पॉलिसी के तहत आठवीं कक्षा तक किसी छात्र को फेल नहीं किया जाता है। आठवीं बोर्ड परीक्षा में फेल होने की स्थिति में स्कूल की क्या भूमिका होगी। रिजल्ट अंक प्रतिशत में दिया जाएगा या ग्रेडिंग सिस्टम में? यह भी स्पष्ट नहीं है। परीक्षा में अनुपस्थित बच्चों के लिए क्या विकल्प होंगे? अबतक सीसीई के तहत एफ ए वन, टू व थ्री और एसए वन में प्राप्त अंकों को आठवीं के रिजल्ट में शामिल किया जाएगा या नहीं समेत अन्य प्रश्नों के उत्तर छात्र एवं शिक्षकों को विभाग से नहीं मिल रहे हैं। सिर्फ यह कहा जा रहा है कि मुख्यालय के निर्देश का इंतजार करें !

मैं हूँ गोड्डा से अभिषेक राज की रिपोर्ट 

About राघव मिश्रा

Check Also

सुशासन का दंभ भरने वाली बिहार पुलिस की बर्बरता का शिकार हुआ आशुतोष,पुलिस की पिटाई में मौत ।

राघव मिश्रा/लालू के जंगलराज को पटखनी लगाकर अपनी सुशासन की शंखनाद करने वाली बिहार सरकार …

10-30-2020 01:55:57×