Home / ताजा खबर / गोड्डा की जहूर इंटरनेशनल खेलों में दिखा रही जौहर ।

गोड्डा की जहूर इंटरनेशनल खेलों में दिखा रही जौहर ।

कौन कहता है कि आसमान में सुराग नही हो सकता !
एक पत्थर तो जरा तबियत से उछालो यारों !!

मोहल्ले की पगडंडियों से चलकर अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर पहुंची “शगुफ्ता जहूर”की कुछ ऐसी है कहानी ।

जी हां उपर लिखे इस लाइन को चरितार्थ कर रही है गोड्डा के मध्यमवर्गी अल्पसंख्यक परिवार में जन्मी गोड्डा की बेटी शगुफ्ता जहूर ।जो शहर के अल्पसंख्यक मोहल्ले असनबनी की पगडंडी रास्ते से चलकर इंटरनेशनल खेलों में अपना स्थान बना लेने वाली श जहूर एक ऐसे समाज की बेटी है जिसने अपनी बेटियों को हमेसा पर्दे में रखा ,लेकिन शगुफ्ता ने इस पर्दे से बाहर आकर समाज को भी एक संदेश दे दी है ।

IMG-20181204-WA0034

हमने उसे पूरी आजदी दिया :आज समाज को जाएगा अच्छा सन्देश : शगुफ्ता जहूर की माँ ।

 

Screenshot_20181204-194406_Video Player

जहूर की माँ से हुई खास बातचीत में उन्होंने कही की हमने उसे पूरी आजादी दी थी आज हमें ही नही पूरे शहर वासी एवं समाज को गर्व हो रहा है अपनी बेटी पर ।उन्होंने अन्य अभिवावक को भी सन्देश देते हुए बताई की पढ़ाई के साथ साथ बच्चों के लिए खेल भी महत्वपूर्ण है।

Screenshot_20181204-193914_Video Player
प्रतिभा को निखरने का मौका देना चाहिए तब आप अपने बच्चों पर गौरवांवित महसूस कर सकेंगे ये कहना है शगुफ्ता की माँ का जिसने अपने बिना समाज की परवाह किये उसे एक ऐसा भयमुक्त वातावरण दिया जिसमें वो खुलकर अपने सपनों को साकार कर रही है ।

कभी पैसे की कमी का एहसास होने नही दी : जहूर की माँ।मँहगे खेल का शौक रखने के बावजुद एक मध्यमवर्गीय परिवार होने के बाद भी उसके माता-पिता ने उसे कोई कमी होने नही दिया।
शटल और रैकेट भी समय के साथ साथ बदलते रहे लेकिन परिवार वालों ने कभी भी खर्च की शिकायत नही की जिससे आज भी शगुफ्ता अपने हौसले लेकर उड़ रही है ।

Screenshot_20181204-193914_Video Player

मध्यमवर्गी परिवार की बेटी है शगुफ्ता जहूर ।

Screenshot_20181204-194911_Video Player

जहूर के पिता एक छोटे से प्राइवेट स्कूल चलाते और बच्चों को अच्छी तालीम देने में जुटे हुए हैं तो माँ समाज के प्रति जागरूक एक समाजसेवी हैं ।

सरकारी स्कूलों से पढ़कर अंतराष्ट्रीय खेलों तक पहुंची जहूर ।

जहूर की प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा गोड्डा गर्ल्स हाई स्कूल से हुई जहाँ से जहूर ने 10वीं पास कर पथरगामा कॉलेज से ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी की साथ ही एम.ए की पढ़ाई के लिए अमृतसर यूनवर्सिटी के जालंधर कॉलेज चली गई जहाँ से वो वर्तमान की पढ़ाई भी कर रही है ।और आज की तारीख में टाटा में गोड्डा जिले की प्रथम बैडमिंटन इंटरनेशनल महिला खिलाड़ी के रूप में टाटा ओपन इंटरनेशनल चैलेंज मैच मुम्बई में खेल रही है जो 28 सितम्बर से 2 दिसम्बर तक चलेगा ।

200 से अधिक इंटरनेशनल खिलाड़ी दिखाएंगे अपना हुनर ।

IMG-20181204-WA0033
जहूर जिस मैच में अपना खेल का प्रदर्शन दिखाने गई है वहां दो सौ से अधिक खिलाड़ी ने शिरकत की है 13 देशों से खिलाड़ी कोर्ट में पहुंचे हैं ।जहां जहूर भारत का प्रतिनिधित्व कर रही है ।

पूरा परिवार का खेल से जुड़ाव ।

Screenshot_20181204-194315_Video Player

7 लोगों से भरा परिवार के मुखिया जहूर के पिता फहीम अहमद एवं माँ गुलशन आरा ने जहूर को पूरा साथ दिया इसका एक कारण यह भी है जो जहूर की माँ कहती है वो ये की अपने स्कूल के दिनों में वो भी एक खिलाड़ी थी इसलिए खेल को बड़ी बारीकी से समझती है ।माता पिता के अलावा जहूर को दो भाई एवं दो बहन भी है
एक भाई आदिल जहूर तो दूसरा आमिर अहमद और बहन फरजेन जहूर एवं जरनैन फहीम है ।बहन फरजेन जहूर भी जिलास्तरीय कैरम खिलाड़ी है । और छोटा भाई आमिर जो इस वक्त मुम्बई में ही डांस की ट्रेनिंग ले रहा है ।

खेल के अलावा खाना बनाने की है शौकीन ।

20181014_160921
शगुफ्ता जहूर भले ही आज देश के लिए खेल रही है लेकिन घर मे खाना बनाने का शौक उसे बहुत ज्यादा है ।जहूर की माँ मुस्कुराते हुए कहती है वो किचन में मेरे साथ खाना बनाने में माहिर है उसे तरह तरह के व्यंजन बनाने का बहुत शौक है किचन में वो बहुत शरारती हो जाती है खाना बनाने के लिए ।

पिता को बेटी पर है नाज :जिले को भी गौरवान्वित कर रही है बेटी ।

Screenshot_20181204-194420_Video Player

शगुफ्ता जहूर के अहमद फहीम ने कहा कि बेटी की उपलब्धियों पर नाज है।साथ ही उसने पूरे जिले को गौरवान्वित किया जिसका हमे फक्र महसूस हो रहा है ।सभी माता पिता को अपने बच्चों पर भरोसा करने की जरूरत है ।

बधाई देने वालों का घर पर लगा है तांता ।

 

Screenshot_20181204-194917_Video Player

शगुफ्ता जहूर की कामयाबी की सीढ़ी बढ़ते ही घर पर मां पिताजी के पास लोगों का मुबारकवाद आना शुरू हो गया है ।लोग माता पिता को शुभकामनाएं देने एक के बाद एक पहुंच रहे हैं ।परिवार के कुछ लोग फोन पर भी माता पिता को बधाई दे रहे हैं ।

बेटा डरना मत हमलोग तेरे साथ हैं :एक माँ का बेटी के नाम सन्देश ।

IMG-20181023-WA0002

मुम्बई में टाटा ओपन इंटरनेशनल मैच खेल रही बेटी के लिए माँ ने सन्देश दिया है कि बेटा हमे ही नही पूरे शहरवासियों को तुमपर गर्व है ,कभी घबराना मत अच्छे से खेलो और देश का नाम रौशन करो ,कभी डरना मत हम सब तुम्हारे साथ हैं ,आगे बढ़ते रहो ।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

सड़क दुर्घटना में एक की मौत,5 घायल,स्वास्थ्य विभाग की दिखी लापरवाही ।

सड़क दुर्घटना में एक की मौत,5 घायल,स्वास्थ्य विभाग की दिखी लापरवाही । महगामा/ महगामा गोड्डा …

10-25-2020 10:47:55×