Home / गोड्डा प्रखण्ड / एसडीओ के आश्वासन पर टूटा आमरण अनशन :किसानों की मुख्य तीन मांगों पर बनी सहमति । ।

एसडीओ के आश्वासन पर टूटा आमरण अनशन :किसानों की मुख्य तीन मांगों पर बनी सहमति । ।

किसानों का कझिया बचाओ किसान बचाओ को लेकर जारी आमरण अनशन एसडीओ नमन प्रियेश लकड़ा के आश्वासन के बाद टूट गया एसडीओ ने जूस पिलाकर किसानों के जारी अनशन को खत्म किया ।

Screenshot_20180830-171525

किसानों के द्वारा जारी मांग में मुख्य तीन मांग पर सहमति बनी जिसके बाद अनशन को तोड़ दिया गया ,अनशन तोड़ने के समय पोड़ैयाहाट विधायक प्रदीप यादव किसानों के साथ मौजूद थे ।

उन्होंने कहा कि किसानों द्वारा मुख्य तीन मांगों पर सहमति बनी है और हमने खनन विभाग के कमिश्नर से भी इस विषय पर बात की है ।

Screenshot_20180830-171907

तीन मांगों पर बनी सहमति

मुख्य तीन मांगों में पहला मांग यह है कि किसानों के पटवन हेतु नदी के चेक डेम का कोई व्यकल्पिक व्यवस्था हो जिसमें उपायुक्त ने क्षेत्रीय मुखिया को चौदवीं वित्तीत वर्ष का पैसा लगाने को कहा है।

Screenshot_20180830-171502

जिसमे मुखिया ने भी सहमति दे दी है ।दूसरी मांग यह थी कि मुख्यमंत्री के द्वारा जारी पत्र के बावजूद भी चेक डेम नही बन पाया है,जिसका आज सीओ ने निरीक्षण किया है ,जिला प्रशासन जल्द उसे योजना के तहत लाकर काम करवाएगी ।

एवं तीसरी मांग यह थी कि नदी से हो रहे अवैध बालू उठाव पर पूर्ण रूपेण बाबन्दी लगे उसपर भी एसडीओ नमन प्रियेश लखड़ा ने आश्वासन दिया है ।

जिसके बाद सबों की समहमति लेकर एवं एसडीओ ने जूस पिलाकर किसानों के अनशन को तुड़वाया ,एवं एक किसान जिसकी हालत गम्भीर बनी हुई थी उसे बेहतर स्वास्थ्य लाभ के लिए सदर अस्पताल गोड्डा लाया गया ।

किसानों का अनशन तीसरे दिन भी जारी था!

कझिया नदी बचाओ ,किसान बचाओ के तहत किसानों के द्वारा लगातार तीन दिनों से आमरण अनशन जारी था,जिसके तहत किसानों का मुख्य मांगों में कझिया नदी में चेक डेम निर्माण एवं तात्कालिक मर रहे फसल के लिए कोई व्यकल्पिक व्यवस्था की मांग के साथ साथ नदी से उठ रहे अवैध बालू उठाव को लेकर डटे हुए थे ।

किसानों को आश्वासन देने पहुंचे थे नेता एवं पदाधिकारी

Screenshot_20180830-171509
आज किसानों का हालचाल जानने एवं चेक डेम के लिए स्थल का निरीक्षण करने गोड्डा सीओ प्रदीप शुक्ला पहुंचे ,उन्होंने स्थल का जायजा लिया ,साथ ही गोड्डा के एसडीओ नमन प्रियेश लकड़ा भी अनशन स्थल पहुंचकर किसानों का हालचाल जाना एवं आग्रह किया गया कि अब अनशन को तोड़ दिया जाय ।

लेकिन किसान अपने मांगो की लिखित स्वीकृति को लेकर अड़े हुए थे।
जबकि किसानों की हालात लगातार बिगड़ती जा रही है एवं एक कि हालत गंभीर बनी हुई थी।

Screenshot_20180830-171600

हालांकि स्वास्थ्य विभाग की टीम लगातार जांच में लगी हुई थी ,एवं किसानों के स्वास्थ्य का खयाल रखा जा रहा था।

इसी बीच पोड़ैयाहाट विधायक प्रदीप यादव भी किसानों को समर्थन देने के लिए अनशन स्थल पहुंचे एवं उन्होंने भी सरकार को सीधे तौर पर जिम्मेवार ठहराया उन्होंने कहा कि यह सरकार की प्राथमिकताओं में गरीब किसान बेरोजगार ,रैयत हैं ही नही हमने व्यकल्पिक व्यवस्था देने की मांग सम्बंधित विभाग से किया है उसे जल्द पुरा कराया जाएगा ।

 

हालांकि रात के अंधेरे में गोड्डा विधायक अमित मंडल भी किसानों के हालचाल जानने पहुंचे थे ।उन्हीने भी आश्वासन दिया था ।
इसी बीच सीओ के फोन के द्वारा क्षेत्रीय मुखिया से उपायुक्त किरण कुमारी पासी की बात हुई और उपायुक्त ने मुखिया को चौदवीं वित्तीय वर्ष के पैसे से व्यकल्पिक व्यवस्था करने की बात कही ।

सरकार पर विफ़रे क्षेत्रीय मुखिया

Screenshot_20180830-171819

यह कहते ही मुखिया लोबिन विफ़र गए और उन्होंने कहा कि उपायुक्त हमे लिखित पत्र जारी करे तभी हम इस कार्य को करवा सकते हैं ,यहां सरकार और जिला प्रशासन कुछ भी नही सुन रही है

Screenshot_20180830-171741

सरकार का जरा सा भी ध्यान नही है किसानों के प्रति अगर होता तो वर्षों से पड़ी यह समस्या दूर हो गई होती ।
मुखिया सरकार के ऊपर चिल्ला चिल्ला कर अपना भड़ास निकालते नजर आए ।

मुख्यमंत्री के पत्र को की गई थी अनदेखी

Screenshot_20180830-171614
कझिया नदी में बनने वाले सिंहवाहिनी मंदिर के बगल में चेक डेम के निरीक्षण कर रिपोर्ट देने की बात मुख्यमंत्री कार्यालय से पहले ही आ चुका था लेकिन विभाग को इस ओर कोई ध्यान नही था ।

अब जब किसान आमरण अनशन का रुख अख्तियार किया तब जाकर विभाग एंव नेता भी जागे ।हालांकि जनसंवाद का पत्र भी किसानों के पास मौजूद हैं जिसमे यह लिखा हुआ है कि जांच कर उचित कार्रवाई की जाय ।

सरकार के ऊपर संदेह बरकरार

Screenshot_20180830-171436

किसानों के नेता सुमन्त कुमार भी बताते हैं कि अबतक कोई ठोस लिखित आश्वासन नही मिल पाया है ।हमलोगों की एक सहमति बनी है जिसपर आश्वासन यह है कि मुख्य तीन मांगों को जल्द पूरा किया जाएगा ।

जिसको लेकर हमलोगों ने अनशन तोड़ दिया है ।हालांकि एक बुजुर्ग किसान कहते हैं की पहले भी ऐसे आश्वासन मिल चुका है हमे अब भी सरकार के ऊपर संदेह बना हुआ है ।

विधायकों की मजबूरी या अंदरूनी राजनीति

Screenshot_20180830-171606

तीन दिनों से हो रहे कझिया बचाओ किसान बचाओ आंदोलन ने जब तूल पकड़ा और सभी राजनीतिक दलों के साथ साथ सत्ताधारी दल के भी कुछ नेता पहुँच कर इस आंदोलन को अपना समर्थन दे दिए इससे गोड्डा के विधायक अमित मंडल को भी अनशन स्थल पर जा कर उन सभी अनशनकारियों से बात कर इस मुद्दे के लिए पहल करने की पेशकश भी की लेकिन आज जमनी पहाड़पुर के मुखिया लोबिन यादव ने इसे एक लॉलीपॉप कहा।

Screenshot_20180830-171712

घटते जनाधार और जनप्रतिनिधियों की निष्क्रियता के कारण उन्हें आने के लिए मजबूर कर दिया वरना वो आते भी नही।
दूसरी तरफ अपनी ताबड़तोड़ जनसभा करते रहने के बावजूद झाविमो के विधायक प्रदीप यादव भी इस लड़ाई में अपनी सहभागिता किये बिना रह नही पाए।

आज अंतिम दिन सिंहवाहिनी मंदिर के प्रांगण में पहुँच ही गए जहां पूर्व में भी इसी मुद्दे पर कई बार आंदोलन की रूपरेखा तैयार कर चुके थे ये बात अलग है कि कुछ नजदीकियों के कारण ये आंदोलन सड़क से लेकर सदन तक उतर नही सका।Screenshot_20180830-171727

इस आंदोलन के मुख्य किरदारों में से एक ने पिछली बार हुए एहसास जा जिक्र भी किया था शायद इसीकारण इस आंदोलन में किसी बड़े चेहरे को शामिल नही करने का फैसला भी लिया था लेकिन अगर चुनाव नजदीक हो और भीड़ के साथ मंच और मुद्दा पहले से तैयार हो तो फिर मंझे हुए राजनीतिज्ञ ऐसे मौके को जाने नही देते है बल्कि कैश कर लेते है।

आज जिला प्रशासन के आश्वासन पर ये अनशन टूटा तो जरूर है लेकिन एक ही आँच और एक ही चावल से कोई खीर,कोई खिचड़ी, कोई भात तो कोई बिरयानी तैयार कर लेगा लेकिन बदकिस्मत उस क्षेत्र की जनता को ग्रामीण भाषा मे खुद्दी टूटा चावल भी नही मिलेगा।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

आर्थिक तंगी के कारण डाक्टर की मौत,कर्ज से डूबा हुआ था परिवार

गोड्डा जिले में संविदा के आधार पर कार्यरत डॉक्टर विजयकृष्ण श्रीवास्तव की लाश आज उनके …

10-21-2020 21:02:36×