Home / ताजा खबर / दीपावली नजदीक, जुए के अड्डे गुलजार :शाम ढलते ही अड्डे पर जुआरियों का लग जाता है जामवाड़ा !

दीपावली नजदीक, जुए के अड्डे गुलजार :शाम ढलते ही अड्डे पर जुआरियों का लग जाता है जामवाड़ा !

गोड्डा/दीपावली आने में कुछ दिन शेष रह गया है। पर्व के नजदीक आते ही जुए का दौर शुरू हो गया है। पैसे बनाने की होड़ में जुआ खेलने व खिलाने का धंधा जोरों पर है। पुलिसिया कार्रवाई नहीं होने से जुआरियों व सटोरियों के हौसले बुलंद हैं।

IMG-20181101-WA0017

दीपावली के मद्देनजर जिला मुख्यालय में दर्जनों ऐसे जगह है जहां पर जुआरियों का अड्डा लगता है। इसके अलावे प्रखंडों में भी यह अवैध के अपने चरम पर है।

इसमें पथरगामा, महागामा, पोड़ैयाहाट, मेहरमा में अधिक देखा जा रहा है। क्षेत्रों में जुए के दावं लगने शुरू हो गये हैं। जानकारी है कि जुआरी दूर दराज क्षेत्रों से आकर हजारों के दावं लगा रहे हैं। जिला मुख्यालय के कुछ क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर जुए व सट्टे का कारोबार चल रहा है।

IMG-20181023-WA0002

सट्टा व जुआ के गंदे खेल में बच्चे भी अछूते नहीं है। छोटे उम्र के बच्चे भी जुए व सट्टे के कारोबार में शामिल हैं। जिससे उनका भविष्य बर्बाद हो रहा है। ज्ञात हो कि दीपावली के पूर्व जुआ को बढ़ावा देने वाले लोगों के चेहरे की रौनक बढ़ गयी है।

कई स्थानों पर तो रसूखदारों के द्वारा उनके घरों पर भी कमीशन लेकर जुआ  खेलवाया जा रहा है। पुलिस द्वारा कार्रवाई जरूर हो रही है, लेकिन छोटी मछलियों पर ही। इस मामले में फिसड्डी है पुलिस जुआ को बढ़ावा देने वाले व जुआरियों की गिरफ्तारी में पुलिसिया रिकार्ड भी बेहतर नहीं है।

20181017_145321

दीपावली से पंद्रह दिन पूर्व शहर के विभिन्न मोहल्लों में जुआ का खेल शुरू हो जाता है। लोगों का कहना है कि जुआरी समाज के लोकलाज को त्याग कुप्रथा को बढ़ावा देते हैं। ऐसे मौके पर शाम ढलते ही शराब व कबाब का दौर भी शुरू हो जाता है।
छठ पर्व तक लगता है दावं :

दिवाली के मौके पर वैसे तो हर जगह बाजारों में रौनक छाई हुई है, लेकिन दूसरे बाजारों से अलग एक अनोखा बाजार भी सजा है, जहां लोग किस्मत आजमा रहे हैं।

20181014_160921

इस बाजार में लोग ताश के पत्तों से जुआ खेलते हैं। दिवाली के दो सप्ताह पहले से लेकर छठ पर्व तक इस बाजार की रौनक बनी रहती है। हालांकि पुलिस जुआ खेलने वालों पर कड़ी नजर रखने का दावा कर रही है।

नगर थाना सहित अन्य थाना क्षेत्रों में दिवाली के मौके पर जुआ खेला जाता है। जिसमें कोई लाखों रुपये जीतता है, तो कोई लाखों रुपये गंवाता है, लेकिन हर साल जुए का खेल बदस्तूर चलता है। वैसे भी प्रदेश में दिवाली पर शहरों और गांवों में ताश के पत्तों से जुआ खेलने का चलन है।

हालांकि, शहरों की तुलना में गांवों में छोटी रकम के दावं लगाये जाते हैं।

अभी तक जुआरियों के खिलाफ कोई बड़ी कार्रवाई नहीं की गयी है। हालांकि इसके लिए पुलिस सूत्रों को निर्देश दिया गया है। पहले तो विभाग पूरी तरह सूचना इकठ्ठा कर रही है। जल्द ही बड़ी कार्रवाई की जाएगी।
-रविकांत भूषण, एसडीपीओ, गोड्डा

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

गोड्डा: दुर्गा पूजा को लेकर एसपी का निर्देश,सभी थानों ले लिए गाइडलाइन जारी ।

पुलिस अधीक्षक गोड्डा वाइ एस रमेश के निर्देशानुसार सभी थाना क्षेत्रों में मंगलवार शाम 4 …

10-19-2020 23:34:21×