Home / ताजा खबर / गोड्डा सदर अस्पताल में उपायुक्त किरण ने दी बच्चे को जन्म,स्वास्थ्य विभाग में सुधार के संकेत ।

गोड्डा सदर अस्पताल में उपायुक्त किरण ने दी बच्चे को जन्म,स्वास्थ्य विभाग में सुधार के संकेत ।

गोड्डा/झारखण्ड में स्वास्थ्य सुविधाएं अब पहले से बेहतर जरुर हुई हैं और अब बस लोगों को भरोसा जताने की जरूरत है ।
इसका ताजा उदाहरण पेश किया गोड्डा जिले की उपायुक्त किरण कुमारी पासी ने आज तड़के सुबह 8 बजकर 51 मिनट पर गोड्डा के सदर अस्पताल में उन्होंने सीजर ऑपरेशन करवाकर एक सवस्थ पुत्र को जन्म दिया है .उपायुक्त किरण पासी एक बहुत ही पॉजिटिव सोच रखने वाली महिलाओं में से एक हैं जो अपने सरकारी तंत्र पर भरोसा जताती हैं ।मूलतः उत्तरप्रदेश के लखनऊ जिले के भटगांव की रहने वाली उपायुक्त किरण कुमारी की शादी डॉक्टर पुष्पेंद्र से वर्ष 2011 में हुई थी ,दो वर्ष पूर्व गोड्डा जिले की उपायुक्त बनकर आई किरण ने यहां के सिस्टम को बदलने में अपना अहम योगदान दी है ।उपायुक्त किरण को एक 6 वर्ष की पुत्री भी है .उपायुक्त ने यहाँ के ब्लड बैंक को खुलवाने का मामला हो ,या फिर कृषि महाविद्यालय में पढाई शुरू करवाने की बात हो या फिर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए सदर अस्पातल में जरुरत की लगभग सभी चीजों के लिए हमेशा से संजीदा रहने वाली उपायुक्त ने जिले की हर वर्ग खासकर गर्भवती महिलाओं को ये सन्देश देने का काम किया है ।

सदर अस्पताल में उपायुक्त के साथ बच्चा
सदर अस्पताल में उपायुक्त के साथ बच्चा

एक तरफ जहाँ रसूख और ओहदे वाले निजी स्वास्थ्य सुविधा लेने पर विश्वास करते हैं तो वहीँ इन्होने सरकारी तंत्र पर विश्वास जताया और यहीं की महिला चिकित्सक की देख रेख में नौ महीने रहीं बल्कि अपना प्रसव भी सदर अस्पातल में करवाकर एक उदहारण पेश किया है .उपायुक्त के प्रसव में पूरा सरकारी स्वास्थ्य महकमा लगा रहा और ऑपरेशन सफल होने के बाद सभी ने इश्वर का धन्यवाद भी किया और खुशियाँ भी जाहिर किया .सबसे ज्यादा ख़ुशी उपायुक्त के पति जो गोड्डा जिले में ही कृषि महाविद्यालय के डीन प्रोफेसर भी हैं उनके चेहरे पर खुशियाँ साफ़ झलक रही थी ,तो वहीँ ऑपरेशन में लगे चिकित्सक और महिला चिकित्सकों में भी ख़ुशी और संतोष झलक रही थी ।

उपायुक्त किरण कुमारी का पुत्र
उपायुक्त किरण कुमारी का पुत्र

गोड्डा की उपायुक्त का प्रसव सरकारी सदर हॉस्पिटल में कराना एक सन्देश भी है कि सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था पहले से सुदृढ़ हुआ है एक जिला अधिकारी का आज के समय में सरकारी अस्पताल में प्रसव होना बड़े बदलाव के संकेत हैं। उम्मीद है कि ये बच्चा सरकारी स्कूल में भी पढ़ेगा और व्यवस्था परिवर्तन में एक मिसाल बनेगा। ताकि सरकारी व्यवस्था के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ सके ।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

सुशासन का दंभ भरने वाली बिहार पुलिस की बर्बरता का शिकार हुआ आशुतोष,पुलिस की पिटाई में मौत ।

राघव मिश्रा/लालू के जंगलराज को पटखनी लगाकर अपनी सुशासन की शंखनाद करने वाली बिहार सरकार …

10-30-2020 13:28:11×