Home / गोड्डा प्रखण्ड / गोड्डा / क्रिसमस को लेकर तैयारी पूरी /आज रात बैठाया जाएगा प्रभु ईसु के बाल रूप को !

क्रिसमस को लेकर तैयारी पूरी /आज रात बैठाया जाएगा प्रभु ईसु के बाल रूप को !

क्रिसमस ईसाई धर्म के लोगों का सबसे बड़ा पर्व है। यह पर्व प्रभु ईसा मसीह के जन्मदिन को लेकर मनाया जाता है। इस दिन गिरजाघरों में विशेष प्रार्थना सभा एवं मीसा पूजा का आयोजन किया जाता है। सभी इसाई धर्मावलंबी चर्च पहुंचकर प्रभु यीशु के के जन्मदिन को मनाते हैं। बाइबल के श्लोकों से ईसा मसीह के उपदेशों को आत्मसात करते हैं और एक दूसरे को बधाई देते हैं ।

  •  क्रिसमस एक नजर में

    * क्रिसमस ईसाइयों का सबसे बड़ा पर्व है

    * क्रिसमस प्रभु यीशु के जन्मदिन को लेकर मनाया जाता है

    * 24 दिसंबर के मध्य रात्रि को एवं 25 दिसंबर की सुबह गिरजाघरों में विशेष प्रार्थना सभा होती है

    *क्रिसमस में चरणी का विशेष महत्व है।

    * क्रिसमस में केक का विशेष महत्व है।

    * क्रिसमस ट्री से गिरजाघर एवं घरों को लोग सजाते हैं।

    * मोमबत्तियों से जलाकर प्रभु यीशु को याद करते हैं।

    शांति, प्रेम और भाईचारा के रूप में मनाया जाने वाला यह पर्व गोड्डा जिला के विभिन्न प्रखंडों में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है । क्रिसमस को लेकर जिले में मसीही समाज के लोगों में उत्साह चरम सीमा पर है ।लोग अपने-अपने घरों ,चर्च एवं संस्थाओं को आकर्षक ढंग से सजा रहे हैं। पूरी तैयारी अंतिम चरण में है ।लोग चरणी को बनाकर उसे भी अच्छी तरह से सजा रहे हैं। चर्च में प्रभु यीशु के गीत का अभ्यास किया जा रहा है। बाजारों में रौनक बढ़ गई है ।लोग साज-सज्जा से लेकर अपने घर की जरूरतों के सामान की खरीदारी को लेकर दुकानों में पहुंच रहे हैं। चर्च में रंग-बिरंगे बल्ब जगमगा रहे हैं ।लोगों के घर स्टार एवं झालरों से पटे पड़े हैं ।अभी से ही लोग एक दूसरे को जीशू मरांग व हैप्पी क्रिसमस की बधाई दे रहे हैं।

अलग अलग जगहों के देखें चर्च 

WhatsApp Image 2017-12-23 at 19.47.05

पोड़ैयाहाट के संत फ्रांसिस चर्च

WhatsApp Image 2017-12-23 at 19.48.36

अगिया मोड का सेंट मेरी चर्च

WhatsApp Image 2017-12-23 at 19.45.40

सिकटिया का चर्च

WhatsApp Image 2017-12-23 at 19.44.29

चरणी बनाते लोग

WhatsApp Image 2017-12-23 at 19.38.16

क्रिसमस को यादगार बनाने को लेकर मसीही समाज के बालिकाओं द्वारा प्रभु यीशु के जन्मदिन पर गीत का अभ्यास कर रही है।

WhatsApp Image 2017-12-23 at 19.40.22

प्रभु यीशु के जन्म स्थान के लिए अस्तबल का हो रहा है निर्माण जिसे मशीन समाज के लोग चरणी कहते हैं इसमें प्रभु यीशु के बाल रूप की प्रतिमा 24 तारीख की रात में रखी जाएगी

About राघव मिश्रा

Check Also

सड़क दुर्घटना में एक की मौत,5 घायल,स्वास्थ्य विभाग की दिखी लापरवाही ।

सड़क दुर्घटना में एक की मौत,5 घायल,स्वास्थ्य विभाग की दिखी लापरवाही । महगामा/ महगामा गोड्डा …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

10-25-2020 10:02:45×