Home / गोड्डा प्रखण्ड / गोड्डा / 100 दिन के बाद भी भीषण लूटकांड का नहीं हो सका है खुलासा !

100 दिन के बाद भी भीषण लूटकांड का नहीं हो सका है खुलासा !

एक से डेढ़ घंटे तक वाहन रोक कर लाखों की हुई थी डकैती

loot

करीब एक सौ दिन के बाद भी डुमरिया भीषण लूटकांड का खुलासा नहीं हो सका है। विगत वर्ष के एक नवंबर की रात डुमरिया व खटनई के बीच पुल पर भीषण लूटकांड के बाद भी पुलिस मूकदर्शक बनी हुई है। इन तीन माह में काफी कुछ बदलाव हुए। जिले के प्रशासनिक महकमों की भी फेर बदल हो गयी। इसके साथ ही लूटकांड के जांच फाइल पर भी धूल जम गयी। जिस घटना ने राजनीतिक व प्रशासनिक माहौल को पूरी तरह से गर्म कर दिया था आज वही घटना ठंडे बस्ते में जाने के कगार पर है। नये पुलिस अधीक्षक के योगदान के बाद भी लोगों के मन में इस घटना के खुलासा के लिए उम्मीद की किरण बनी हुई है। लेकिन इस भीषण लूटकांड का खुलासा कब तक हो पाएगा इसका कोई अता पता नहीं है।

दर्जनों वाहनों से हुई थी लाखों की लूट :

1_1512781045

इस लूटकांड के पीड़ित रहे लोगों ने बताया था कि करीब डेढ़ घंटे तक लूटकांड हुई थी। 20-25 की संख्या में नकाबपोश अपराधियों ने दर्जनों वाहनों से लाखों की संपत्ति लूट लिया था। अधिकतर वाहनों के चालक, बैठे यात्रियों से छिनतई की गयी थी। अपराधियों ने सारी हदे पार करते हुए छोटे छोटे मासूम पर बंदूक की नोक दिखाकर उनके परिजनों से जेवरात लूटे थे। इस घटना ने पुलिसिया व्यवस्था की पूरी तरह से पोल खोल कर रख दी थी। घटना के दो घंटे बाद पुलिस पहुंची। लेकिन बहुत पहले ही अपराधी वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए थे।

लूटकांड ने बढ़ायी थी राजनीतिक सरगर्मी :

इस लूटकांड ने प्रशासन का जीना मुहाल कर दिया था। घटना ने राजनीतिक सरगर्मी भी बढ़ा दी थी। इस घटना के बाद सत्ता पक्ष व विपक्ष के विधायक के भी सुर मिल गए थे। झाविमो विधायक प्रदीप यादव व भाजपा विधायक अमित कुमार लूटकांड के खुलासा के लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया था। इस घटना को दोनों विधायकों ने एकजुट होकर बीस सूत्री की बैठक में उठाया था। जानकारों की माने तो इसी प्रकरण ने जिले में एक और राजनीतिक प्रकरण को जन्म दिया था। जिसके बाद तत्कालीन पुलिस अधीक्षक हरिलाल चौहान का तबादला भी हो गया था। नये पुलिस अधीक्षक राजीव रंजन सिंह के योगदान के बाद इस घटना के उद्भेदन की भी उम्मीद बनी हुई है। लेकिन दो माह योगदान के बाद भी मामला का खुलासा नहीं सका है।

क्या कहते है पदाधिकारी :-

लूटकांड की घटना में अभी तक पूरी तरह से अपराधियों को चिन्हित नहीं किया जा सका है। लूटकांड की जांच चल रही है।
-राजीव रंजन सिंह, पुलिस अधीक्षक, गोड्डा

About राघव मिश्रा

Check Also

सुशासन का दंभ भरने वाली बिहार पुलिस की बर्बरता का शिकार हुआ आशुतोष,पुलिस की पिटाई में मौत ।

राघव मिश्रा/लालू के जंगलराज को पटखनी लगाकर अपनी सुशासन की शंखनाद करने वाली बिहार सरकार …

10-30-2020 01:52:35×