Home / ताजा खबर / अडानी कम्पनी के ऊपर रैयत द्वारा धानी फसली जमीन को रौंदने का आरोप !ऐसे रैयत मुवावजा लेने से पहले कर चुके हैं इनकार।

अडानी कम्पनी के ऊपर रैयत द्वारा धानी फसली जमीन को रौंदने का आरोप !ऐसे रैयत मुवावजा लेने से पहले कर चुके हैं इनकार।

आदिवासी महिला रो रही गढियाली आंसू

Screenshot_20180901-210632

गोड्डा जिला में प्रस्तावित अडानी पावर प्लांट के लिए यूँ तो सरकार के द्वारा कम्पनी को जमीन हस्तांतरित कर दी गयी है जिसमे कई रैयतों को मुआवजा भी मिल गया है ।

 

लेकिन आज प्रॉजेक्ट से सटे माली मौजा का जमाबन्दी नम्बर 42 माली संथाली 16 बीघा 16 कट्ठा 7 धुर पर बिना नोटिस एवं मुआवाज़े के ही धानी फसली जमीन को रौंद दिया।

Screenshot_20180901-210656

रैयतों का कहना है कि अडानी के ठेकेदारों ने जबरदस्ती जमीन को पोकलेन से रौंदा कई पेड़ को भी उखाड़ दिया। रैयतों का आरोप है कि बिना नोटिस एवं मुवावजे के ही जमीन पर अडानी ने बुलडोजर चलवा दिया ।

Screenshot_20180901-210806

जबकि जमीन पर मौजूद अडानी के एरिया ऑफिसर ने कहा कि सरकार द्वारा 166 एकड़ जमीन का LPC मिल चुका है जिसके तहत ही जमीन को एक्वायर किया जा रहा है ।इन विरोध करने वाले रैयत लोगों का भी पैसा आ चुका है ,इन्हें नोटिस भी दिया गया है ।

महिलाएं जमीन के लिए रो रही घड़ियाली आंसू

एक तरफ जहां रैयतों का आरोप है कि 3 दिन पहले एरिया ऑफिसर के द्वारा कहा गया था कि जमीन नही लेंगे तुमलोगों का, लेकिन अचानक आकर पूरे खेत को रौंद दिया।

Screenshot_20180901-210733

इस घटना के बाद ग्रामीण आदिवासी महिलाएँ विलाप कर रही है।लेकिन ये आंसू महज एक घड़ियाली आंसू लग रहा है ,क्योंकि वो जमीन के लिए गिड़गिड़ा तो रही है।

लेकिन वहीं उन रैयतों का नाम भी उपायुक्त कार्यालय में दर्ज है जो आज विरोध कर रहे हैं ,उन्हें नोटिस भी भेजा गया था लेकिन मुवावजा लेने कैम्प में नही पहुंचे और आज वही लोग रो रो कर राजनीतिकरण कर मामले को तूल दे रहे हैं ।

Screenshot_20180901-210727

कानून के मुताबिक 80%रैयतों की सहमति पर ही मिलता है LPC

भूमि अधिग्रहण कानून के मुताबिक 80%प्रतिशत रैयतों की सहमति के बाद ही लेंड पोजिशन सर्टिफिकेट कम्पनी को सरकार देती है ।जो गोड्डा प्रोजेक्ट के लिए कम्पनी को मिल चुका है।

अधिकारी की की माने तो महज चार पांच लोग ही ऐसे बचे हैं ,वो भी वैसे लोग जिन्होंने नोटिस के बावजूद कैम्प में जाकर पैसा नही लिया ।

Screenshot_20180901-210601

इन लोगों का विरोध शुरू से है लेकिन कम्पनी को LPC मिलने के बाद वो अपना काम तो करेगी ।नियम के मुताबिक पहले नोटिस के बाद ही ,रैयत को जमीम पर किसी भी प्रकार का फसल नही लगाने का प्रवाधान है ।

Screenshot_20180901-212009

लेकिन बावजूद इसके फसल लगाने के बाद बर्बाद हुआ जो नही होना था ।ऐसे रैयतों को पुनः नोटिस भेजकर पैसे लेने को कहा जायेगा ।

क्या आदिवासी हो रहे हैं राजनीतिकरण का शिकार?

ऐसे में सवाल यह लगता है कि कही माली मौजा के कुछ आदिवासी राजनीतिकरण के शिकार तो नही हो रहे हैं ,कहीं ऐसा तो नही की नियम को ताक पर रखकर सारा नीति बनाया गया हो ?

Screenshot_20180901-212110

हालांकि ऐसी स्थिति से भी रैयत इनकार कर रहे हैं ,लेकिन कुछ रेटों का कहना है कि पैसा मिलेगा तो जो करना होगा करेगा बिना पैसा का नही चढ़ने दिया जाएगा ।

ऐसे बयानों से साफ जाहीर होता है कि कहीं न कहीं बचे हुए कुछ आदिवासी रैयत की मन से स्वीकृति भी है जो पैसा नही ले पाए हैं।

क्या कहती है उपायुक्त

जिला उपायुक्त किरण कुमारी पासी ने कहा कि माली मौजा के कुछ रैयत का विरोध शुरू से रहा है उन्हें भी नोटिस भेजा गया था, वैसे विरोध करने वालों में तीन चार लोग हैं जो मुवावजा नही लिए हैं ।

Screenshot_20180901-212019

उपायुक्त ने कही हैं कि उन्हें फिर से नोटिस भेजा जाएगा और फिर भी नही लेंगे तो उसे टेब्यूलर में कमिश्नरी भेज दिया जाएगा ।

बता दें कि भूमि अधिग्रहण कानून के मुताबिक 80 प्रतिशत रैयतों की सहमति के बाद ही सरकार LPC सर्टिफिकेट देती है ।जो अडानी को मिल चुका है ऐसे में कुछ चंद रैयत ही बचे हैं जो मुवावजा लेने से इनकार कर रहे हैं।

अब अगर नोटिस के बावजूद भी उन लोगों का विरोध है तो ये महज एक राजनीतिकरण ही लग रहा है ।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

चुनाव आयोग ने 7 दिन के अंदर मांगी जांच रिपोर्ट प्रमंडलीय आयुक्त को निर्देश,थाने में इंजीनियर की पीट-पीटकर पुलिस ने की थी हत्या ।

बिहपुर थाने में इंजीनियर आशुतोष पाठक की पुलिसकर्मियों ने द्वारा पीट-पीटकर हत्या मामले में चुनाव …

11-28-2020 08:37:28×