Home / संपादकीय / आखिर कहाँ जा रहे हैं हम?जहां महफूज नही रह पा रही है बेटियां ।

आखिर कहाँ जा रहे हैं हम?जहां महफूज नही रह पा रही है बेटियां ।

अभिजीत तन्मय/गोड्डा/कहने को हम शिक्षित हो रहे है। 21 वीं सदी में प्रवेश कर रहे है। ब्रह्मांड,चाँद और मंगल अब आम बात हो गयी है। सरकार शिक्षा का अलख जगा कर हमारे समाज की बुराई,रूढ़िवादी विचारों को मिटाने के लिए लगातार कोशिश कर रही है।

 

मोदी सरकार की एक मुहिम “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” चल रही है ताकि समाज मे बेटी-बेटा के अंतर/भेदभाव खत्म हो सके।
समाज मे बेटियों के साथ हो रहे अमानवीय व्यवहार के खिलाफ भी कठोर कानून बना कर सरकार अपनी मंशा साफ कर चुकी है लेकिन हमारा समाज है कि बदलने का नाम ही नही ले रहा है।

 

तीन दिन के अंदर तीन घटनाएं इस बात का प्रमाण है कि हम अभी भी अपनी करनी से पूरे भारत के पटल पर गोड्डा को शर्मसार कर रहे हैं।
आज सुबह की एक घटना जिसमे मुफ़स्सिल थाना क्षेत्र के लेंगड़ाडीह गाँव मे जानवर चरा रही एक नाबालिग के साथ दुराचार का प्रयास किया गया।

 

हल्ला मचाने पर लड़की के परिजन पहुँचे तब युवक भागा लेकिन परिजनों के द्वारा आरोपी के घर पहुँच कर जब शिकायत किया गया तब वो अपनी गलती पर शर्मिंदा न होकर वो उल्टे लड़ाई करने लगा और जान से मारने की धमकी देने लगा।

 
इस घटना के बाद गाँव की स्थिति खराब होने लगी। कुछ लोग कानून को हाथ मे लेकर उसे भीड़ तंत्र द्वारा मार देने की फिराक में थे। पुलिस की सक्रियता से जिला पर पुनः लगने वाला एक दाग हट गया लेकिन तनाव बरकरार है।

20181004_203617

दूसरी घटना मुफ़स्सिल थाना क्षेत्र के सैदापुर गाँव की है जब एक युवक के द्वारा 7-8 साल की बच्ची के साथ दुराचार करने का प्रयास किया गया। बच्ची के रोने के कारण प्रयास अधूरा रह गया।

20181004_203426
बच्ची की शिकायत पर घरवाले उत्तेजित होकर इसकी शिकायत करने थाना पहुँचे लेकिन कुछ समाज के ही लोगों ने समझा बुझा कर इसे पंचायती करके मामले को निपटाने का प्रस्ताव रखा।

 

आरोपी का पिता भी दे लेकर मामले से बचने का प्रयास कर रहा है। फिलहाल पैसे के बल पर मांडवाली होने की आशंका है लेकिन अगर बात मनमुताबिक नही हुई तो मामला कल सुबह थाना में जरूर आएगा।

20181004_203358
दो रात पूर्व महागामा सामुदायिक अस्पताल में भी छेड़खानी का मामला प्रकाश में आया था जिसमे आरोपी की पहचान हो चुकी है और उस पर केस भी हो चुका है।
कहीं न कहीं पूरे प्रकरण में सरकार के कठोरतम कानून की जानकारी होने के बावजूद सबों को लगता है उनका कुछ नही बिगड़ सकता है।
महाभारत में यक्ष ने युधिष्ठिर से सवाल किया था कि #संसार मे आश्चर्य क्या है?

 

20181004_203445
युधिष्ठिर ने जवाब दिया था कि हम प्रतिदिन लोगों को मरते देखते है लेकिन हम अजर-अमर रहेंगे ये ही आश्चर्य है।

उसी तरह हम सभी प्रतिदिन अखबारों एवम न्यूज़ चैनलों में पढ़ते और देखते है कि इस तरह की घटना के बाद पकड़ाए युवक का क्या हाल होता है।

जेल के साथ सजा और सामाजिक बहिष्कार तक हो जाता है लेकिन यहां भी हम सबों को यही लगता है हमारे साथ ऐसा कुछ नही होगा, हम पकड़े ही नही जाएंगे।

About मैं हूँ गोड्डा (कार्यालय)

Check Also

लोग यूँ ही नहीं कोख में मार डालते हैं बेटी को,जब सुरक्षित नही हमारी बेटियां ।

अभिजीत तन्मय/पिछले कई सालों से फेसबुक और मीडिया से जुड़ा हुआ हूँ। कोई ऐसा दिन …

10-30-2020 03:46:01×